1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आरुषि के माता-पिता को सीबीआई का समन

नोएडा के आरुषि हत्याकांड में नया मोड़ सामने आया. सीबीआई ने आरुषि के माता पिता को समन भेजा. सीबीआई डायरेक्टर अश्विनी कुमार ने कहा, जांच पूरी हो जाने तक सभी को हत्याकांड का आरोपी माना जाएगा.

default

हत्याकांड की जांच कर रही सीबीआई ने शुक्रवार को कहा कि आरुषि के माता-पिता को समन भेजकर देहरादून से दिल्ली बुलाया गया है. दो साल पुराने इस मामले की गुत्थी अब भी रहस्यमयी ढंग से उलझी हुई है. शुक्रवार को सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा, ''नूपुर तलवार और राजेश तलवार 19 मई से देहरादून में हैं. केस की जांच कर रही सीबीआई की टीम ने उनसे कहा है कि वह दिल्ली आएं. जांच टीम को आरुषि हत्याकांड से जुड़ी कई बातें पूछनी है, इसीलिए उन्हें यहां बुलाया गया है.''

जांच एजेंसी से जब यह पूछा गया कि समन पूछताछ करने के लिए या नहीं, तो सीबीआई के डायरेक्टर अश्विनी कुमार ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. लेकिन उन्होंने यह ज़रूर कहा, ''केस खुलने तक सब इस मामले में आरोपी हैं.''

आरुषि हत्याकांड मई 2008 में सामने आया था. 14 साल की आरुषि की उसी के घर में हत्या कर दी गई. शुरू में तलवार परिवार के नौकर हेमराज को हत्या का आरोपी बताया गया और कहा गया कि वह फरार हैं. दो दिन बाद बाद हेमराज का शव आरुषि के घर की छत पर मिला.

पहले मामले की जांच यूपी पुलिस ने की और उसने आरुषि के पिता को आरोपी बताकर जेल भिजवा दिया. बाद में जांच सीबीआई के हवाले कर दी गई और सबूतों की कमी चलते डॉक्टर राजेश तलवार को अदालत ने ज़मानत दे दी. सीबीआई ने तब कहा कि आरुषि और हेमराज की हत्या डॉक्टर तलवार परिवार के पारिवारिक मित्रों के नौकरों ने की.

इस सिलेसिले में तीन युवकों को गिरफ्तार किया गया. कृष्णा, राजकुमार और विजय मंडल को गिरफ़्तार करने के बाद भी केस खुल नहीं पा रहा है. इसके बाद इसी साल सीबीआई ने हत्याकांड की नए सिरे से जांच करवाने के लिए एक नई टीम बनाई. इस साल फरवरी में आरुषि के माता पिता का नार्को टेस्ट भी करवाया गया.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: एस गौड़

संबंधित सामग्री