1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

आमेर पर नरमी क्यों दिखाएं: पीसीबी

मैच फिक्सिंग कांड के आरोपी पाकिस्तान के युवा गेंदबाज मोहम्मद आमेर को रियायत मिलती नहीं दिख रही है. टीम के सहायक मैनेजर का कहना है कि अगर कोई कानून तोड़े तो उसे दूसरे लोगों जैसी सजा मिलनी चाहिए.

default

फिक्सिंग कांड की कड़ी मार 18 साल के बेहद प्रतिभाशाली गेंदबाज मोहम्मद आमेर पर पड़ती दिख रही है. आईसीसी और पूर्व क्रिकेटरों के मुताबिक आमेर अभी युवा हैं, लिहाजा उन्हें एक मौका और देना चाहिए. बाएं हाथ के तेज गेंदबाज को कम सजा देनी चाहिए लेकिन आईसीसी के इस लचीले रुख का टीम मैनेजमेंट पर कोई असर नहीं पड़ा है.

सोमवार को सहायक मैनेजर शफकत राणा ने कहा, ''अगर आमेर युवा हैं तो भी कोई फर्क नहीं पड़ता.'' इंग्लैंड के खिलाफ दूसरा टी-20 खेलने से पहले सोफिया गार्डन में राणा ने यह बयान दिया. उन्होंने जता दिया कि आमेर को युवा या बच्चा कहकर माफ नहीं किया जा सकता.

Indien Mohammad Aamer

युवा खिलाड़ी फिक्सिंग की फांस में

इससे पहले आईसीसी ने मैच फिक्सिंग के आरोपी पाकिस्तानी खिलाड़ियों को निलंबित किया था. कप्तान सलमान बट्ट, मोहम्मद आमेर और मोहम्मद आसिफ को बाहर किए जाने का फैसला खुद आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हारून लोगार्ट ने किया. प्रेस कांफ्रेंस में लोगार्ट ने कड़े शब्दों में मैच फिक्सिंग की निंदा की. लेकिन आमेर के लिए उन्होंने नरम भाषा का प्रयोग किया.

लोगार्ट ने कहा कि, ''ईमानदारी से कहूं तो मेरे विचार से ऐसे मामलों में उम्र का ध्यान भी रखा जाना चाहिए.'' इसके जवाब में राणा ने कहा, ''मुझे लगता है कि सभी कानून तोड़ने वालों के साथ एक जैसा बर्ताव होना चाहिए.''

उधर आरोपी खिलाड़ियों के खिलाफ कार्रवाई की हदें अब बढ़ती जा रही है. पाकिस्तान के इनकम टैक्स विभाग ने भी मामले की जांच शुरू कर दी है. जांच पर राणा ने कहा, ''मुझे लगता है कि सरकार का यह फैसला अच्छा है. ऐसे मामले खुलने ही चाहिए ताकि खिलाड़ी भविष्य में सतर्क रहें.'' वनडे टीम के कप्तान शाहिद अफरीदी ने भी इनकम टैक्स की जांच का स्वागत किया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: एन रंजन