1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

आपका स्मार्टफोन आपका डॉक्टर

ब्लू टूथ से चलने वाला टूथ ब्रश हो या फिर डायबटीज का पता करने वाली घड़ी, ऐप्स और स्मार्टफोन से जुड़ कर आज कल सब कुछ ही स्मार्ट होता जा रहा है और आपकी सेहत का भी ध्यान रख रहा है.

स्मार्टफोन के साथ संपर्क करता दुनिया का पहला टूथ ब्रश. अगर आप अपने दांतों को बहुत ज्यादा रगड़ रहे हैं, तो फोन में ऐप आपको बता देगा. ब्रश करते करते आप मौसम की जानकारी भी देख सकते हैं. दांत साफ करते वक्त भी आप बोर नहीं होंगे. ब्लू टूथ वाला यह फोन जल्द ही बाजार में आ रहा है. प्रॉक्टर एंड गैंबल के हंस योर्ग रीक बताते हैं, "सफाई करते वक्त ब्रश और फोन बिना परेशानी के एक दूसरे से संपर्क करते हैं, एक सहज तरीके से. यानी आप ब्रश ऑन करते हैं और सफाई के दौरान ऐप अपने आप काम करने लगता है."

फिटनेस घड़ियां

स्वास्थ्य से संबंधित ऐप्स का बाजार बड़ा होता जा रहा है. डायबिटीज के मरीज अब हर वक्त अपने ब्लड शुगर पर नियंत्रण रख सकते हैं. इसके लिए बांह में एक सेंसर लगाना होता है जो हर दो मिनट पर खून में शुगर नापता है. मोबाइल के ऐप में डाटा ट्रांसफर होता है जिससे पता चल सकता है कि खून में चीनी की मात्रा सेहत के लिए कितनी खतरनाक है. जिएसएमए कनेक्टड लिविंग की प्रॉजेक्ट मैनेजर लौरेन सोर्नो बताती हैं, "दुनिया में करीब 10 प्रतिशत लोगों को डायबिटीज है. यह एक बढ़ता बाजार है और दुख की बात है कि यह बढ़ता ही जा रहा है."

कई कंपनियां अब फिटनेस घड़ियां बना रही हैं. हुआवेई की घड़ी हो तो फोन को बैग से निकालने की भी जरूरत नहीं. आप घड़ी से ही कॉल ले सकते हैं. सैमसंग की घड़ी ऐसा नहीं कर सकती लेकिन इसमें कलर डिसप्ले है और इसका वजन केवल 27 ग्राम है. सैमसंग की बारबरा गेल के मुताबिक इस घ़ड़ी से आपको पता चल सकता है कि आपके फोन में किसके कॉल आए, आप मेसेज पढ़ सकते हैं और अपनी नब्ज भी देख सकते हैं ताकि आपको पता चले कि आपको कब ब्रेक लेना चाहिए.

स्मार्ट टीशर्ट्स

यहां तक कि खेल के मैदान में भी स्मार्टफोन अहम भूमिका निभा सकते हैं. फ्रेंच कंपनी इंटरनेशनल सिटिजेन साइंसेस ने एक सेंसर वाली टीशर्ट निकाली है जो खिलाड़ियों के मैदान में चलने फिरने के ढंग और उनकी नब्ज नापकर सीधे कोच के पास भेजती है. कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर जिलबेर रेवेयों कहते हैं, "हमारा मकसद है कि हम सेंसर को कपड़े में मिला लें ताकि इसे बाहर से लगाने की जरूरत न पड़े, इससे मरीज या खिलाड़ी को अलग से मेहनत नहीं करनी पड़ेगी."

फ्रांस की यह कंपनी इन टीशर्ट्स में दो करोड़ यूरो का निवेश कर रही है. इस साल से यह बाजार में मिलने भी लगेंगी. भविष्य में खिलाड़ी ही नहीं, बल्कि दिल के मरीज और डायबिटीज रोगी भी इसे पहनकर पूरे 24 घंटे अपने स्वास्थ्य पर निगरानी रख सकेंगे.

रिपोर्टः वोल्फगांग बेर्नेर्ट/एमजी

संपादनः ईशा भाटिया

DW.COM

संबंधित सामग्री