1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आधुनिकीकरण की तरफ बढ़ी प्रभु एक्सप्रेस

मोदी सरकार ने अपना पहला रेल बजट पेश किया. रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने लॉलीपॉप बांटने के बजाए रेलवे को आधुनिक और बेहतर बनाने का संकेत दिया.

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने अपने पहले रेल बजट में यात्री किराये में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की. यह पहला मौका है जब रेल बजट में किसी नई ट्रेन का एलान नहीं किया गया. प्रभु के मुताबिक कई रूटों पर ट्रेनें पहले से ही देरी से चल रही हैं. जल्द ही रूटों की यथास्थिति की समीक्षा पूरी हो जाएगी, उसके बाद ही नई ट्रेनों का एलान किया जाएगा.

उन्होंने सेवा, सुरक्षा और आधुनिकीकरण पर जोर दिया. लेकिन इसके लिए पैसे की भी जरूरत होगी. प्रभु ने इसके लिए पीपीपी मोड को हरी झंडी दिखाई. हालांकि उन्होंने साफ किया कि रेलवे का निजीकरण नहीं होगा.

रेल बजट की मुख्य बातों पर एक नजर:

  1. मुंबई-अहमदाबाद के बीच हाई स्पीड रेल.
  2. दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-कोलकाता को एक रात का सफर बनाना.
  3. नौ कॉरिडोरों में ट्रेनों की रफ्तार 160-200 किमी प्रति घंटा करना.
  4. ए श्रेणी के स्टेशनों पर ऑटोमैटिक टिकट वेंडिंग मशीन लगाना.
  5. जनरल डिब्बों में मोबाइल चार्जिंग प्वाइंट लगाना.
  6. शिकायत के लिए मोबाइल ऐप बनाया जाएगा.
  7. ए1 श्रेणी के स्टेशनों पर वाई फाई सुविधा.
  8. बिना रिजर्वेशन वाले लोगों को पांच मिनट के भीतर टिकट खरीदने की सुविधा.
  9. ट्रेन के आने और मंजिल तक पहुंचने के समय के बारे में यात्रियों को एसएमएस अपडेट.
  10. रेलवे हेल्पलाइन नंबर 138 हर वक्त चालू रहेगा.
  11. विकलांग, बुजुर्ग और बीमार यात्रियों के लिए आईआरटीसी के जरिए विशेष सुविधा.
  12. खास रूटों और महिला आरक्षित डिब्बों में सीसीटीवी कैमरे लगाना.
  13. ट्रेनों में बेहतर साफ सफाई. "स्वच्छ रेल, स्वच्छ भारत का नारा."
  14. इसरो की मदद देश भर के 3,438 मानवरहित रेलवे क्रॉसिंगों को सुरक्षित बनाना.
  15. टक्कर टालने के लिए कई रूट की ट्रेनों में एंटी कोलिजन डिवाइस लगाना.
  16. 6,000 किलोमीटर ट्रैक का विद्युतीकरण.
  17. 17,000 शौचालयों को बायो शौचालय में बदला जाएगा.
  18. पीपीपी मोड के जरिए रेलवे की इमारतों में सौर ऊर्जा संयंत्र लगाए जाएंगे. बिजली की खपत का ऑडिट होगा.
  19. रेलवे अपने वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाएंगे. पानी की खपत का ऑडिट होगा.
  20. रेलवे से अलग एक रेग्युलेशन बनाया जाएगा. नियामक गुणवत्ता तय करेगा और प्रदर्शन का मूल्यांकन भी करेगा.
  21. ट्रेनों के शोर को कम करने पर काम किया जाएगा.
  22. रेलवे भर्ती को पारदर्शी बनाया जाएगा.
  23. रेलवे अपने कर्मचारियों को योग की ट्रेनिंग देगी. कर्मचारियों के लिए बने हॉलिडे होमों का विस्तार होगा.
  24. अलग अलग शहरों में चार रेलवे रिसर्च सेंटर खोले जाएंगे. बनारस में रेलवे यूनिवर्सिटी खुलेगी. ये संस्थान रेलवे के आधुनिकीरण का खाका तैयार करेंगे.
  25. आखिरी किलोमीटर तक रेल पहुंचाने के लिए राज्यों के साथ साझेदारी की जाएगी.
  26. रेलवे की संपत्ति से अतिक्रमण हटाने की जिम्मेदारी तय करना.
  27. देश के मुख्य बंदरगाहों तक मालगाड़ियों को पहुंचाने के लिए रेल नेटवर्क बनाया जाएगा.
  28. महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटने के 100 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में इस साल गांधी सर्किट शुरू किया जाएगा.
  29. इसी तरह किसान यात्रा सर्किट भी बनाया जाएगा.
  30. पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए रेलवे खास जगहों पर ट्रैवल एजेंटों के साथ साझेदारी करेगा.
  31. पर्यावरण के लिहाज से रेलवे सड़क परिवहन से कहीं ज्यादा बेहतर है. रेलवे को बेहतर और इको फ्रेंडली बनाया जाएगा.
  32. अगले पांच साल में रेलवे में 8.5 लाख करोड़ रुपये का निवेश होगा. इतनी रकम पीपीपी मोड, पेंशन फंड, बीमा फंड, घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार से कर्ज लेकर जुटाई जाएगी.

भारतीय रेलवे दुनिया का चौथा बड़ा रेल तंत्र है. पूरे तंत्र का 80 फीसदी हिस्सा 1947 से पहले ही ब्रिटिश हूकूमत तैयार कर चुकी थी. लेकिन इसके बाद आधुनिकीकरण की रफ्तार धीमी पड़ गई. रेल घाटे और राजनीति की लोकलुभावन नीतियों में फंस गई. सुरेश प्रभु अपने बजट को विकासोन्मुख और बेहतर सेवाओं वाला तो बता रहे हैं लेकिन इतने बड़े तंत्र में बदलाव करना आसान नहीं. बल्बों, बैटरियों की चोरी, पटरियां काटना और विरोध के लिए ट्रेन रोक देना भारत में ऐसी दिक्कतें आम हैं.

ओएसजे/आरआर (पीटीआई)

संबंधित सामग्री