1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आधा गांव लेबनान में और आधा इस्राएल में

इस्राएल ने लेबनान की सीमा पर बसे एक गांव के विवादित उत्तरी हिस्से से अपने सैनिक हटाने का फैसला किया है और इसका नियंत्रण संयुक्त राष्ट्र के शांति सैनिकों को सौंपा जाएगा. गजर गांव दो देशों की सीमाओं में बंटा है.

default

यूएन को मिलेगी जिम्मेदारी

दरअसल यह गांव सीरिया, लेबनान और गोलन पहाड़ियों के उस इलाके की सीमा पर पड़ता है जिसे इस्राएल ने 1967 के मध्यपूर्व युद्ध में सीरिया से छीन लिया. 1981 में इस्राएल ने गोलन को अपने में मिला लिया. गजर का उत्तरी हिस्सा लेबनान में है और दक्षिणी इलाका गोलन में आता है. गांव का एक हिस्सा इस्राएली सीमा में और दूसरा लेबनान में होने की वजह से वहां रहने वाले लोगों को रोजमर्रा की जिंदगी में कई परेशानियां उठानी पड़ती हैं. बावजूद इसके वे नहीं चाहते कि गांव का दोबारा बंटवारा हो क्योंकि अगर ऐसा होता है तो 1700 लोग लेबनान में होंगे और 500 इस्राएल में होंगे.

इस्राएल ने जब गोलन के इलाके को अपने कब्जे में लिया तो गजर के दक्षिणी हिस्से में ज्यादातर लोग सीरियाई नागरिक थे, लेकिन गोलन के इस्राएल में मिलने के बाद उन्होंने भी इस्राएली नागरिकता ले ली. हालांकि अंतरराष्ट्रीय बिरादरी गोलन को इस्राएल में मिलाने को मान्यता नहीं देती.

2006 में इस्राएल ने लेबनान के शिया गुट हिज्बुल्लाह के साथ युद्ध में गजर के लेबनानी हिस्से के लगभग आधे भाग पर कब्जा कर लिया था. संयुक्त राष्ट्र युद्ध को समाप्त कराने वाले यूएन के प्रस्ताव 1701 के मुताबिक इस्राएल पर दबाव डाल रहा था कि वह उत्तरी गजर से अपने सैनिक हटाए. इस्राएल ने अब इसको बाकयदा मंजूरी दे दी है. प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतान्यूह के दफ्तर से जारी बयान के मुताबिक सैनिकों के हट जाने के बाद भी इस बात को सुनिश्चित किया जाएगा कि गांव के दोनों हिस्सों के लोग बेरोकटोक पूरे गांव में आ जा सकें.

गजर गांव के दोनों हिस्सों के लोगों के पास इस्राएली नागरिकता है, लेकिन उत्तरी हिस्से में रहने वाले लोग इस्राएली और लेबनानी दोनों पासपोर्ट रखते हैं. वे इस्राएल में कहीं भी आ जा सकते हैं और काम कर सकते हैं, लेकिन गांव के लेबनानी हिस्से में रहने वाले लोगों को इस्राएली सेवाओं हासिल करने में परेशानियां होती हैं. गांव के मुख्य द्वार पर एक इस्राएली चौकी है. गांव के चारो ओर बाड़ लगी है लेकिन उत्तरी और दक्षिणी हिस्से के बीच कोई ऐसी कोई बाड़ या दीवार नहीं है.

हिज्बुल्लाह सांसद अली अम्मार ने उत्तरी गजर से हटने के इस्राएली फैसले का स्वागत किया है और कहा है कि सीमा पर बसे क्फार शुबा और शेबा फार्म्स जैसे इलाकों में भी ऐसा होना चाहिए. सीरिया हमेशा मांग करता रहा है कि रणनीतिक महत्व के गोलन इलाके को पूरी तरह उसे लौटाया जाना चाहिए.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः प्रिया एसेलबोर्न

DW.COM

WWW-Links