1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आधार नंबर पाने वालों की तादाद 10 लाख पार

त्रिपुरा की रहने वालीं 15 साल की सुकीर्ति एक अहम सूची में भारत की 10 लाखवीं नागरिक बन गई हैं. यह सूची है यूनिक आईडी नंबर आधार पाने वालों की. इस सूची में 10 लाख लोगों का नाम लिखा जा चुका है.

default

पिछले साल 29 सितंबर को पहला आधार नंबर जारी किया गया था. तब से यह काम लगातार जारी है और उत्तरी त्रिपुरा की रहने वालीं सुकीर्ति के साथ यह संख्या 10 लाख पर पहुंच गई है. यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया की देखरेख में यह काम हो रहा है. इस अथॉरिटी के अध्यक्ष नंदन निलेकेणि हैं जो पहले सॉफ्टवेयर कंपनी इन्फोसिस से जुड़े थे.

निलेकेणि बताते हैं, "हमें पहले एक लाख लोगों को नंबर जारी करने में छह हफ्ते का वक्त लगा था. उसके अगले नौ लाख लोगों को हमने उतने ही वक्त में आधार नंबर जारी कर दिए हैं. यह न सिर्फ एक सफलता है बल्कि एक बड़ा मील का पत्थर भी है. हमारा मकसद है कि अगले चार साल में कम से कम साठ करोड़ लोगों के पास अपने आधार नंबर हों."

आधार नंबर पाने वालों की यह सूची भी कम दिलचस्प नहीं है. अब तक जिन लोगों को आधार नंबर दिए गए हैं उनमें सबसे कम उम्र का धारक 13 दिन का एक बच्चा है. लेकिन इसके ठीक उलट 103 वर्ष के शख्स को भी आधार नंबर जारी किया गया है.

अथॉरिटी के महानिदेशक और मिशन डायरेक्टर आरएस शर्मा बताते हैं कि अब यह काम और तेज होगा. उन्होंने कहा, "आने वाले हफ्तों में आधार नंबर के लिए नामांकन का काम काफी तेज हो जाएगा. क्योंकि अब नागरिकों के नामांकन करने वाले रजिस्ट्रार की तादाद बढ़ जाएगी."

अब तक कुल 15 जगहों पर ही आधार नंबरों के लिए लोगों का नामांकन किया जा रहा है. लेकिन 60 से ज्यादा एजेंसियों से नामांकन के लिए समझौता हो चुका है. इनमें कई बड़े बैंक भी शामिल हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ईशा भाटिया

DW.COM

WWW-Links