1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

आत्मघाती महिला हमलावर का सिर और कपड़े मिले

शनिवार को पाकिस्तान में आत्मघाती बम हमला करने वाली महिला का सिर और कपड़े पुलिस को मिल गए हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का दावा है कि चरमपंथी पीछे हट रहे हैं. यह तीसरा हमला है जो किसी महिला हमलावर ने किया है.

default

रविवार को पाकिस्तान के सरकारी अधिकारी ने बताया कि एक महिला जो सिर से पैर तक बुरके से ढंकी हुई थी उसने ही आत्मघाती बम हमला किया. इस बम विस्फोट में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़ कर 46 हो गई है. पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों को चिंता है कि अगर इस तरह के हमले बढ़ते हैं तो सुरक्षा की नई चुनौती सेना और पुलिस के सामने खड़ी हो जाएगी. क्योंकि पारंपरिक समाज में बुरका पहनी महिलाओं की सुरक्षा जांच करना आसान नहीं.

संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य अभियान के तहत बाजौर में लोगों को खाद्यान्न बांटा जा रहा था कि एक महिला ने खुद को उड़ा लिया. रॉयटर्स समाचार एजेंसी ने वरिष्ठ सरकारी अधिकारी सुहैल अहमद के हवाले से लिखा है, "शुरुआती दौर में यह संदेह था कि हमलावर पुरुष है लेकिन बाद में पुष्टि हो गई कि आत्मघाती बम धमाका करने वाली एक महिला ही थी." बाजौर के सरकारी अधिकारियों ने बताया कि उन्हें इस हमलावर के कपड़े और उसका सिर मिल गए हैं.

2007 में एक और महिला ने इस तरह का हमला उत्तर पश्चिमी शहर पेशावर में सुरक्षा नाके के पास किया था लेकिन उसमें उसने खुद को ही उड़ाया था कोई और इस हमले में नहीं मारा गया. जबकि शनिवार को बाजौर में हुए हमले में पहले तो महिला ने खाद्यान ले रहे लोगों पर हैंड ग्रेनेट से फेंका और फिर खुद को उड़ा लिया. इसमें 46 लोग मारे गए और 60 से ज्यादा घायल हुए हैं.

कबायली और सुरक्षा मामलों के जानकार रहिमुल्ला यूसुफजई कहते हैं, "अगर चरमपंथी इस तरह के हमलों के लिए महिलाओं का इस्तेमाल ज्यादा करने लगे तो सेना के लिए मुश्किल खड़ी हो जाएगी. महिला पुलिसकर्मियों की संख्या बहुत ही कम है. और अगर महिला पुलिस हो भी तो भी हमारी संस्कृति बहुत रूढ़िवादी है वह महिलाओं की सुरक्षा जांच कतई नहीं होने देगी. इससे बहुत मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं."

पश्तून कबायली इलाके में पाकिस्तानी सेना ने कई हमले किए हैं क्योंकि इसे चरमपंथियों के छिपने का ठिकाना माना जाता है. सेना के कई हमलों के बावजूद चरमपंथियों के हमले लगातार जारी है. उधर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी दावा करते हैं कि चरमपंथियों के ठिकानों को नेस्तनाबूत कर दिया गया है और वह पीछे हट रहे हैं और इसीलिए इस तरह के हमले कर रहे हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links