1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आतंकी हमले की चेतावनी पर जर्मनी नाराज

जर्मनी सहित कई यूरोपीय देशों में आतंकी हमले के खतरे के कारण कुछ देशों के अपने नागरिकों को यात्रा के मामले में दी गई चेतावनी पर जर्मनी ने नाराजगी जताई है.

default

जर्मन गृहमंत्री दे मेजियेर

जर्मनी के गृहमंत्री थोमास डे मेजियेर ने एक साक्षात्कार में कहा है कि अल कायदा के हमले के खतरे के कारण यात्रियों को दी गई इस प्रकार की चेतावनी से आतंकवादियों को दहशत फैलाने में मदद मिलती है. उन्होंने कहा कि जर्मनी ऐसे खतरों को गंभीरता से ले रहा है लेकिन अगर डंका पीटा जाए तो इससे आतंकवादियों को ही मदद मिलती है. ऐसे प्रचार के जरिये वे दहशत का माहौल तैयार करना चाहते हैं. गृहमंत्री डे मेजियेर का कहना था कि जर्मनी खामोशी के साथ अपना काम किए जा रहा है.

इस हफ्ते अमेरिका, ब्रिटेन, जापान व स्वीडन की ओर से अपने नागरिकों को चेतावनी दी गई थी कि यूरोप के देशों की यात्रा के दौरान वे सावधानी बरतें, क्योंकि अल कायदा व उससे जुड़े गिरोहों की ओर से हमलों की संभावना है. इसके अलावा ब्रिटिश और अमेरिकी मीडिया में इस आशय की रिपोर्टें छपी थी कि अल कायदा ब्रिटेन, फ्रांस व जर्मनी में मुंबई हमले की तर्ज पर हमला करना चाहता है.

खबरों में कहा गया कि अफगान मूल के एक जर्मन नागरिक की गिरफ्तारी के बाद उससे पूछताछ करने में इसकी जानकारी मिली है. जर्मनी से बड़ी संख्या में लोग पाकिस्तान के सरहदी इलाके में गए हुए हैं और वहां आतंकवादियों के शिविरों में प्रशिक्षण पा रहे हैं. जर्मन खुफिया सूत्रों के अनुसार उनकी संख्या 65 के आसपास है.

गिरफ्तार जर्मन नागरिक का नाम अहमद सिद्दिकी है, और हैम्बर्ग में वह 11 सितंबर के मुख्य आतंकी मोहम्मद अता से भी परिचित था.

इसी हफ्ते उत्तरी वजीरीस्तान में एक अमेरिकी ड्रोन हमले में कम से कम पांच आतंकवादियों की मौत हो गई थी. पाकिस्तानी खुफिया सूत्रों के अनुसार उनकी संख्या आठ थी और वे जर्मनी के नागरिक थे. जर्मन गृहमंत्री डे मेजियेर ने इस बात की पूष्टि करने से इंकार कर दिया कि वे जर्मनी के नागरिक थे. उन्होंने इस बात पर अचरज दिखाया कि एक बीहड़ इलाके में मानव रहित ड्रोन हमले में मारे गए लोगों के पासपोर्ट भी इस बीच मिल गए हैं.

डे मेजियेर ने कहा कि किसी को यह खुशफहमी नहीं होनी चाहिए कि जर्मनी आतंकवादियों के निशाने पर नहीं है. लेकिन तुरंत किसी हमले का कोई ठोस संकेत नहीं मिला है.

रिपोर्ट: एजेंसिया/उभ

संपादन: एन रंजन

DW.COM

WWW-Links