1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आतंकवाद रहा मोदी ट्रंप की मुलाकात का मुख्य मुद्दा

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की पहली मुलाकात में आतंकवाद पर जोर रहा. मोदी ने कहा कि आंतकवाद से लड़ना और आतंकवादियों की सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म करना हमारे लिए महत्वपूर्ण होगा.

वीडियो देखें 02:00

आलिंगन कूटनीति

व्हाइट हाउस के बाहर एक दूसरे को गले लगाते हुए प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप ने अपनी पहली मुलाकात में सामरिक संबंधों के नये काल की शुरुआत की. अमेरिका ने इस मौके पर पाकिस्तान के एक प्रमुख उग्रपंथी सैयद सलाहुद्दीन को ग्लोबल आतंकवादी घोषित कर दिया. सलाहुद्दीन पाकिस्तान स्थित हिजबुल मुजाहिदीन संगठन का नेता है, जो कश्मीर में भारत के खिलाफ संघर्ष कर रहा सबसे बड़ा संगठन है.

ट्रंप ने एक बार फिर खुद को भारत का सच्चा मित्र कहा. उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच रिश्ते इससे पहले कभी इतने बेहतर नहीं रहे. हालांकि दोनों नेताओ की पहली बैठक में कुछ मुद्दों पर तनाव भी था. व्यापार के मुद्दे पर ट्रंप की मांग रही कि भारत में निर्यात करने वाली अमेरिकी कंपनियों के लिए प्रक्रियाओं को और आसान बनाया जाए.

बातचीत के बाद ट्रंप ने कहा कि भारत और अमेरिका दोनों ही देश चरमपंथियों और चरमपंथी विचारधारा के शिकार हैं. उन्होंने कहा, "हम उग्र इस्लामी चरमपंथ को नष्ट कर देंगे." इस मुद्दे पर मोदी ने कहा कि आंतकवाद से लड़ना और आतंकवादियों की सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म करना हमारे लिए महत्वपूर्ण होगा.

अमेरिकी प्रशासन का कहना है कि वह भारत की रक्षा प्रौद्योगिकी को बेहतर बनाने में मदद करना चाहता है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने 36.5 करोड़ डॉलर के मूल्य के सी-17 सैनिक परिवहन विमान बेचने की मंजूरी दे दी. इसके अलावा अमेरिका भारत को हिंद महासागर की निगरानी के लिए 2 अरब डॉलर के अमेरिकी ड्रोन बेचने की पेशकश करेगा.

हालांकि मोदी का अमेरिका दौरा उनके पिछले तीन दौरों के मुकाबले थोड़ा शांत रहा, लेकिन इसने दोनों नेताओं को एक दूसरे से मिलने और समझने का पर्याप्त मौका दिया. ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया ने मोदी के लिए व्हाइट हाउस में डिनर दिया जो ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद किसी विदेशी मेहमान के लिए व्हाइट हाउस में पहला डिनर था. ट्रम्प ने मोदी के आर्थिक नेतृत्व की सराहना की. मोदी ने भी ट्रंप की तारीफ की और उन्हें भारत आमंत्रित किया. भारतीय प्रधानमंत्री ने कहा कि व्यापार की दुनिया में ट्रंप का विशाल और सफल अनुभव दोनों देशों के संबंधों को बेहतर बनाने में मदद करेंगे.

एसएस/एमजे(एपी)

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री