1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आतंकवाद के खिलाफ भारत अफगान वक्तव्य

भारत और अफगानिस्तान ने कहा है कि आतंकवाद क्षेत्र में स्थिरता और शांति के लिए मुख्य खतरा है. विदेश मंत्रियों के बीच बातचीत के बाद कहा गया है कि हमले की योजना बनाने वाले आतंकवादियों के लिए पनाह खत्म करना पड़ेगा.

default

अफगानिस्तान के साथ स्ट्रैटेजिक साझेदारी

भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा के साथ अफगान विदेश मंत्री जलमई रसूल की बातचीत में पाकिस्तान की जमीन से पैदा होने वाला आतंकवाद एक प्रमुख मुद्दा था, दोनों देशों को जिसका सामना करना पड़ रहा है. दोनों पक्षों ने इस शिकस्त देने के लिए अपनी तैयारी पर ज़ोर दिया है.

बातचीत के बाद जारी किए गए वक्तव्य में कहा गया है कि कृष्णा और रसूल ने इस पर जोर दिया कि अफगानिस्तान और क्षेत्र के दूसरे देशों को निशाना बनाने वाले आतंकवादी व चरमपंथी गिरोहों के लिए पनाह खत्म करने की गारंटी देना बेहद जरूरी है. संयुक्त वक्तव्य में इस सिलसिले में खुले तौर पर पाकिस्तान का ज़िक्र नहीं किया गया है.

बातचीत के दौरान दोनों मंत्रियों का कहना था कि वे अफगानिस्तान को मध्य व दक्षिण एशिया को जोड़ने वाली एक कड़ी के रूप में देखना चाहते हैं, जो व्यापार, ट्रांजिट और लोगों के बीच संपर्क को आसान बनाएं.

उन्होंने कहा कि दोनों देशों की सरकारें अपनी जनता व पूरे क्षेत्र के हिते में बहुपक्षीय व दीर्घकालीन स्ट्रैटेजिक साझेदारी को आगे बढ़ाना चाहते हैं. अफगान विदेश मंत्री जलमई रसूल ने प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह से भी मुलाकात की.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: ओ सिंह

संबंधित सामग्री