1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आतंकवाद के खिलाफ फ्रांस, भारत हैं साथ

फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसोआ ओलांद यूं तो भारत के गणतंत्र दिवस पर विशेष मेहमान है, लेकिन दोनों देशों ने राफाल लड़ाकू विमान की खरीद सहित कई समझौतों पर दस्तखत किए हैं. दोनों देश आतंकवाद के खिलाफ भी मिलकर लड़ेंगे.

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि उन्होंने फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांसोआ ओलांद को 26 जनवरी के समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित करने का फैसला तभी कर लिया था जब नवंबर में आईएस आतंकियों ने पेरिस को निशाना बनाया. रक्षा मामलों में सहयोग बढ़ाने को लेकर भारत के दौरे पर आए फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसोआ ओलांद ने आतंकवाद के खिलाफ अपने संघर्ष को और मजबूत करने की बात कही. ओलांद ने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वे दोनों मिलकर आतंकवाद रोधी कार्रवाई करते रहेंगे. नवंबर में हुए पेरिस हमले और 2008 में भारत के मुंबई जैसे हमलों में दोनों देश निशाना बन चुके हैं.

फ्रांस से 36 लड़ाकू विमान खरीदे जाने के सौदे के वित्तीय पहलुओं पर अंतिम वार्ता सोमवार को भी चली. राफाल लड़ाकू जेट बनाने वाली फ्रांसीसी कंपनी दासो के साथ भारत के करीब 9 अरब डॉलर वाले इस समझौते को दुनिया के सबसे बड़े रक्षा सौदों में गिना जाता है. इसके अलावा दोनों देशों के बीच अंतरिक्ष, विज्ञान, तकनीक और रेलवे से जुड़े 13 अन्य समझौतों पर भी हस्ताक्षर हुए.

राष्ट्रपति ओलांद के दौरे पर सुरक्षा पर बहुत ध्यान दे रहे भारत के अलग अलग राज्यों में आईएस से संपर्क के संदेह में कई गिरफ्तारियां भी हुई हैं. हैदराबाद, बेंगलूरू, टुमकुर, लखनऊ, मुंबई और औरंगाबाद से कम से कम 14 लोगों को एनआईए ने गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि इन लोगों ने इंटरनेट पर बम बनाने की प्रक्रिया देखी थी. इसके अलावा उनकी गिरफ्तारी की जगह से बम बनाने से संबंधित कई तस्वीरें भी बरामद हुईं. भारत में गणतंत्र दिवस के मद्देनजर सुरक्षा एजेंसियां बहुत ज्यादा सावधानी बरत रही हैं.

फ्रांसिसी राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तानी सीमा के पास लगे भारत के पठानकोट सैनिक छावनी पर हुए हमले का जिक्र किया. मोदी ने कहा, "राष्ट्रपति ओलांद और मैं इस बात पर सहमत हैं कि आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए हमें इस तरह सहयोग करना है जिससे हमारे समाज में चरमपंथ और आतंकवाद का खतरा ठोस रूप में कम हो सके." इस मौके पर ओलांद ने यह भी बताया कि फ्रेंच एयर फोर्स के राफाल विमान इस्लामिक स्टेट पर हवाई हमले करने में बहुत प्रभावी साबित हो रहे हैं.

26 जनवरी को मुख्य अतिथि के रूप में फ्रांसीसी राष्ट्रपति राजपथ पर झांकियों के रूप में भारत की सैन्य शक्ति का प्रदर्शन देखेंगे. इस बार पहली बार फ्रेंच सैनिकों के रूप में कोई विदेशी टुकड़ी भारत के गणतंत्र दिवस परेड का हिस्सा बनेगी.

आरआर/एमजे (पीटीआई,एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री