1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आतंकवादी वारदात के संकेतः कैमरन

ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने लंदन में एक सैनिक की सरेआम हत्या के बाद कहा है कि इस घटना के आतंकवादी होने के मजबूत संकेत मिले हैं. उन्होंने कहा कि जब तक इसके हर तार को नहीं जोड़ लिया जाता, चैन से नहीं बैठा जाएगा.

हमले के बाद अपनी फ्रांस यात्रा को छोटी कर देश लौटे कैमरन ने कहा, "पुलिस और सुरक्षा अधिकारियों ने हर जानकारी पर काम करना शुरू कर दिया है. वे सबूत के एक एक हिस्से को उलट पुलट कर देखेंगे, हर तार को जोड़ेंगे और उस वक्त तक चैन से नहीं बैठेंगे, जब तक यह बात पता न लग जाए कि आखिर क्या हुआ है." उन्होंने कहा, "इसके साथ यह भी तय किया जाएगा कि इसके जिम्मेदारों को न्याय दिलाया जाए."

उन्होंने सुरक्षा पर लोगों को भरोसा देते हुए कहा, "पुलिस और सुरक्षाकर्मी चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं, ताकि लोगों को सुरक्षित रखा जा सके. उन्हें मेरा और पूरे देश के लोगों का पूरा समर्थन हासिल है."

ब्रिटिश सेना का एक जवान जिस वक्त कार से जा रहा था, उसी वक्त कथित हमलावरों ने उसकी कार को पीछे से टक्कर मारी. इसके बाद हमलावरों ने उस पर तेज हथियारों से हमला कर दिया.

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि हमलावरों ने कसाइयों के इस्तेमाल किए जाने वाले हथियारों का प्रयोग किया. कई तस्वीरों और वीडियो में एक युवा अश्वेत को हथियार के साथ सड़क पर खड़ा दिखाया गया है और दावा किया गया है कि यही हमलावर है.

कैमरन ने कहा कि इस कार्रवाई को "किसी कीमत पर न्यायोचित नहीं" ठहराया जा सकता. मीडिया में ऐसी रिपोर्टें हैं कि हमलावर मारे गए सैनिक को पहले से जानता था. इस पर कैमरन का कहना है, "कोई भी टिप्पणी जांच के बाद ही की जा सकती है."

Police forensics officers investigate a car at a crime scene where one man was killed in Woolwich, southeast London May 22, 2013. British Prime Minister David Cameron has called a meeting of his government's emergency Cobra security committee after the killing of a man in south London, his office said on Wednesday. REUTERS/Stefan Wermuth (BRITAIN - Tags: CRIME LAW POLITICS)

वूलविच घटना की जांच शुरू

अमेरिका में 26/11 वाले आतंकवादी हमले के बाद से लंदन और ब्रिटेन में आतंकी खतरा बना हुआ है. 2005 में लंदन की सार्वजनिक जगहों पर हमले किए गए थे, जिनमें 50 से ज्यादा लोगों की जान गई थी.

ताजा हमले में कथित हमलावर ने इस्लाम की दुहाई देते हुए नारेबाजी की है. हालांकि ब्रिटिश प्रधानमंत्री कैमरन का कहना है कि इस्लाम का इससे कोई लेना देना नहीं, "इस्लाम में ऐसा कुछ नहीं है, जो आतंकवाद की तर्कसंगत ठहराता हो." उन्होंने ब्रिटेन के विकास में मुसलमानों की सक्रिय भूमिका का भी जिक्र किया.

प्रधानमंत्री ने उस महिला का भी जिक्र किया, जिसने हमले के बाद हमलावर को उलझाए रखा और उससे बात करती रही. कैमरन ने इनग्रि़ड का जिक्र करते हुए कहा, "एक हमलावर ने उससे कहा कि वह पूरे लंदन पर हमला करने वाला है, जिस पर इनग्रिड ने कहा कि वह सिर्फ हारने वाली जंग लड़ रहा है."

एजेए/एएम (एजेंसियां)

DW.COM

संबंधित सामग्री