1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

आज फिर ताकत दिखाएंगे कर्नाटक के मुख्यमंत्री

तीन दिन के भीतर दूसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा विधानसभा में बहुमत साबित करेंगे. गुरुवार को कर्नाटक विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा. बीजेपी सरकार का भविष्य हाई कोर्ट के फैसले पर निर्भर करेगा.

default

कर्नाटक में राजनीतिक ड्रामे का एक और सीन गुरुवार को नजर आएगा. हालांकि यह आखिरी सीन होगा या नहीं इस बारे में सिर्फ कयास लगाए जा सकते हैं. येदियुरप्पा ने सोमवार को भी बहुमत हासिल किया लेकिन राज्यपाल हंसराज भारद्वाज ने उसे अवैध घोषित करते हुए उन्हें दोबारा बहुमत साबित करने को कहा.

लेकिन येदियुरप्पा और बीजेपी इस बार उतने परेशान नहीं हैं क्योंकि 224 सदस्यों वाली विधानसभा की संख्या अब घटकर 208 रह गई है. 16 बागी विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष पहले ही अयोग्य करार दे चुके हैं.

इस संख्या पर बीजेपी के लिए बहुमत साबित करना मुश्किल काम नहीं होगा क्योंकि उसके पास 106 सदस्यों का समर्थन है. कांग्रेस के पास 73 सदस्य हैं जबकि जेडीएस 28 विधायकों के साथ सदन में तीसरे नंबर पर है.

बीजेपी को बुधवार को एक कामयाबी और मिली जब उसने एकमात्र निर्दलीय विधायक वार्थुर प्रकाश को अपनी तरफ मिला लिया. अब बीजेपी 107 सदस्यों के समर्थन का दावा कर रही है. उसे यह भी उम्मीद है कि जेडी(एस) के एमसी अश्वथ भी उसकी मदद करेंगे.

अयोग्य करार दिए गए पांच निर्दलीय विधायक विधानसभा स्पीकर के फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट चले गए हैं. हाई कोर्ट 18 अक्तूबर को फैसला सुनाएगा. अगर हाई कोर्ट स्पीकर के फैसले को गलत ठहराता है तो येदियुरप्पा को फिर विश्वास का मत हासिल करना होगा.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links