1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

आखिरी यात्रा अंतरिक्ष में

अंतरिक्ष की यात्रा या तो अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के बस की होती है या फिर अमीरों के. लेकिन अंतरिक्ष यात्रा का जैसे जैसे व्यावसायिकरण होने लगा है, भारहीन होने का सपना कई लोगों के लिए संभव हो गया है.

2001 में अंतरिक्ष पर्यटक बनने वाले पहले व्यक्ति अमेरिका के डेनिस टिटो भले ही रहे हों लेकिन इससे भी काफी पहले स्टार ट्रैक रचने वाले जीन रोडेनबरी की अस्थियां 1997 में ही अंतरिक्ष में फेंकी गई. इसके बाद कई देशों के लोगों ने मरने के बाद अंतरिक्ष में जाने की इच्छा जताई.

दूसरे विश्व युद्ध में पायलट रहे रॉकी लारोक की भी इच्छा थी कि वह अंतरिक्ष में जाएं, लेकिन जीवन में वो ये सपना पूरा नहीं कर सके. उन्होंने अपनी बेटी से से कहा कि मरने के बाद वह अंतरिक्ष में जाना चाहते हैं. उनकी बेटी हॉली कहती हैं," मेरे पिता को प्रक्षेपण देखना बहुत पसंद था. वह उनके लिए कभी पुराने नहीं हुए. यह एक रोमांच था. सीमा का विपरीत असीम. वो कहते थे कि उन्हें उड़ान से जुड़ा सब पसंद था. अगर जिंदगी का रास्ता बदलता तो वह अंतरिक्ष यात्री होते." जिसमें रॉकी को रुचि थी भला बेटी उससे अलग कैसे रह पाती.

Bildergalerie Bestattung im Weltraum

इन कैपसूलों में अस्थियों को रखा जाता है

1997 में स्टार ट्रैक सीरीज बनाने वाले जीन रोडेनबेरी की अस्थियां अंतरिक्ष में प्रक्षेपित की गई. यह दुनिया में पहली बार था कि किसी की अस्थियां आसमान में गई हों. इसे मेमोरियल स्पेसफ्लाइट के नाम से जाना जाता है. रॉकी ने जब इसके बारे में पढ़ा तो उन्हें अपना सपना पूरा होते दिखा, लेकिन किसी को इस इच्छा के बारे में बताना जरूरी था. हॉली बताती हैं, "जब मेरे पिता मरे तो उन्होंने मुझे अपनी अंतिम इच्छा बता दी थी. उन्होंने 1997 में मुझे अखबार की कटिंग दी, जो सेलेस्टिस कंपनी के बारे में थी, जिसने रोडेनबेरी की अस्थियां अंतरिक्ष में भेजी. मैंने जब उनसे पूछा कि आप ये चाहते हैं, तो उन्होंने कहा, हां तुम इसकी तैयारी करोगी. और इस बारे में मेरे मरने तक किसी को मत बताना."

2010 में 90 की उम्र में जब रॉकी मरे तो हॉली जानती थीं कि उन्हें क्या करना है. जैसे ही जीन की अस्थियां आसमान में गईं, दुनिया भर के कई लोगों ने यह इच्छा जाहिर की. हालांकि इस तरह की अंतिम क्रिया अभी भी दुर्लभ ही है. आने वाले पांच साल में पांच हजार लोग ऐसे हो सकते हैं जो मरने के बाद अंतरिक्ष के अंधेरों में चक्कर काटना चाहते हैं.

सेलेस्टिस कंपनी स्पेस फ्यूनरल पैकेज के तहत चार ऑफर देती है. इसमें अलग अलग कीमत की अंतिम क्रिया होती है, कुछ सौ डॉलर से एक लाख बीस हजार डॉलर तक. बेसिक पैकेज के तहत अस्थियों का थोड़ा हिस्सा छोटे कैप्सूल में रखा जाता है, अंतरिक्ष भेजा जाता है और लौट आता है. फिर धरती की कक्षा की उड़ान होती है जिसमें मृतक की अस्थियां आखिरकार भाप बन जाती हैं, एक शूटिंग स्टार की तरह. फिर एक मून लॉन्च होता है और एक गहरे अंतरिक्ष की अंतिम क्रिया.

हॉली अपने पिता की अस्थियों को देख सकती है, एक पल में वह पुर्तगाल के ऊपर होते हैं, तो दूसरे में बोस्टन के ऊपर. एक साल बाद वह और उनके साथ आसमान में गए यात्री धरती की कक्षा में लौटेंगे और एक साथ पुच्छल तारे की तरह आसमान में दिखाई देंगे और फिर लुप्त हो जाएंगे. हॉली ने अपने पिता के लिए दूसरा विकल्प यानी धरती की कक्षा की उड़ान को चुना क्योंकि उन्हें लगा कि उनके पिता को आखिरी बार तारे की तरह चमक कर अंतरिक्ष में विलीन होना निश्चित अच्छा लगेगा.

रिपोर्टः सायन ग्रिफिन/आभा मोंढे

संपादनः मानसी गोपालकृष्णन

DW.COM

संबंधित सामग्री