1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

आखिरी चार में भारत पाकिस्तान

बेल्जियम से पुराना हिसाब चुकता कर भारतीय हॉकी टीम चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल में पहुंच गई. पाकिस्तान भी ओलंपिक चैंपियन जर्मनी को हराकर सेमीफाइनल में पहुंच गया है. दोनों में खिताबी जंग मुमकिन.

मेलबर्न में खेले गए क्वार्टर फाइनल के मुकाबले में एक मात्र गोल हुआ और यही निर्णायक साबित हुआ. 13वें मिनट में मिले पेनल्टी कॉर्नर को बेल्जियम ने रिबाउंड किया, गेंद सीधी नितिन थिमैया के पहुंची. थिमैया ने ऐसा शॉट मारा कि बेल्जियम को हवा भी नहीं लगी.

एक गोल खाते ही मजबूत मिडफील्ड वाले बेल्जियम ने भारत पर दबाव बढ़ा दिया. लेकिन टीम इंडिया की रक्षा पंक्ति इस दबाव को लाजवाब तरीके से झेल गई. उप कप्तान वी रघुनाथ, रुपिंदर पाल सिंह और गोलकीपर टीआर पोतुनुरी की तिकड़ी गोलपोस्ट के सामने अभेद दीवार की तरह खड़े हो गए.

इससे पहले भारत और बेल्जियम का दो बार सामना हुआ और दोनों बार भारतीय टीम को हार का मुंह देखना पड़ा. बीते साल चैंपियंस चैलेंज के फाइनल में और इसी साल लंदन ओलंपिक में मिली इन हारों ने भारतीय खिलाड़ियों को मनोवैज्ञानिक रूप से भी परेशान किया. उन्हें लगने लगा कि बेल्जियम से पार पाना बहुत मुश्किल है. गुरुवार को मिली जीत ने इस सोच को तोड़ा है. अब भारत के पास 30 साल बाद चैंपियंस ट्रॉफी जीतने का मौका है.

सेमीफाइनल में भारत का मुकाबला ऑस्ट्रेलिया बनाम इंग्लैंड मैच के विजेता से होगा. इंग्लैंड को सरदार सिंह की अगुवाई वाली भारतीय टीम चैंपियंस ट्रॉफी के शुरुआती चरण में हरा चुकी है.


गुरुवार को भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान भी चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल में पहुंचा. पाकिस्तान ने जर्मनी को 2-1 से हरा दिया. पाकिस्तान का सामना अब हॉलैंड से होगा. अगर सेमीफाइनल में भी उसे जीत मिली तो टीम 1998 के बाद पहली बार चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में होगी. हॉलैंड न्यूजीलैंड को 2-0 से हराकर यहां तक पहुंचा है.

पाकिस्तान की सफलता में अब तक शकील अब्बासी की बड़ी भूमिका रही है. जर्मनी के खिलाफ दोनों गोल अब्बासी ने किए. इस प्रदर्शन से खुद उन्हें बड़ी राहत मिली, "इससे पहले के तीन मैचों में मैंने कोई स्कोर नहीं किया. मैं अपनी टीम का अहम खिलाड़ी हूं और जानता हूं कि मुझे गोल करने ही होंगे."

ओलंपिक चैंपियन जर्मनी के खिलाफ एक गोल से पिछड़ने के बावजूद पाकिस्तान ने मैच 2-1 से जीता. सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए जर्मनी ने पहले मिनट से आक्रमक खेल खेला, लेकिन अब्बासी के गोलों ने इसका तोड़ निकाल दिया.

ओएसजे/एजेए (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links