1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

आखिरकार रेड बुल का खाता खुला

कारों की नाकामी और हादसों से भरी फॉर्मूला वन के मॉन्ट्रियल ग्रां प्री में रेड बुल का खाता खुला. इस साल पहला मौका आ ही गया जब मर्सिडीज के ड्राइवर रेस नहीं जीत पाए. हालांकि जीत फेटल की नहीं, उनके नए जोड़ीदार की हुई.

24 साल के ऑस्ट्रेलियाई ड्राइवर डैनियल रिकॉर्डो की जीत में भाग्य का ज्यादा योगदान रहा. आखिरी लम्हों में रेस में सबसे आगे चल रहे निको रोसबर्ग की मर्सिडीज का हाइब्रिड इंजन जवाब दे गया. इस सत्र में अब तक फर्राटा भर रही मर्सिडीज की दोनों कारें मॉन्ट्रियल में हांफ गई.

जीत की हैट ट्रिक बनाने वाले मर्सिडीज के लुइस हैमिल्टन की कार के ब्रेक जवाब दे गए. कभी पहले, कभी दूसरे नंबर पर गाड़ी चलाने वाले हैमिल्टन को ब्रेक फेल होने के बाद बाहर होना पड़ा. वहीं आखिरी लम्हों में सीधे ट्रैक पर रोसबर्ग की मर्सिडीज भी स्पीड पकड़ने में नाकाम रही. बस यहीं से रेड बुल के डैनियल रिकॉर्डो को मौका मिल गया. ऑस्ट्रेलियाई ड्राइवर ने रोसबर्ग को ओवरटेक कर दिया. हालांकि इंजन की नाकामी के बावजूद जिस ढंग से रोसबर्ग ने दूसरा नंबर पक्का किया, वो काबिले तारीफ रहा. 2010 से अब तक लगातार चैंपियन बनते आ रहे रेड बुल के जर्मन ड्राइवर सेबास्टियान फेटल तीसरे नंबर पर रहे.

Formel 1 Großer Preis von Kanada Mercedes Rosberg Hamilton

हैमिल्टन (बाएं) और रोसबर्ग (दाएं)

फोर्स इंडिया के लिए निराश करने वाली रेस रही. फोर्स इंडिया के सेर्गियो पेरेज और विलियम्स के फिलिपे मासा के बीच चौथे नंबर के लिए जोरदार संघर्ष चल रहा था. लेकिन आखिरी चक्कर में उनकी कार फोर्स इंडिया से भिड़ गई. टक्कर जोरदार थी. रेस रोक दी गई और दोनों को अस्पताल ले जाया गया. ब्रेन स्कैन के बाद दोनों को छुट्टी दे दी गई.

हादसे के बाद सेफ्टी कार आई और जब तक वह बाहर हुई तब तक रेस का नतीजा करीब करीब तय हो चुका था. मैक्लैरेन के जेसन बटन चौथे और उनके जरा पीछे चलने वाले फोर्स इंडिया के जर्मन ड्राइवर निको हुल्केनबर्ग पांचवें नंबर पर रहे.

चैंपियनशिप के लिहाज से फिलहाल मर्सिडीज के रोसबर्ग 140 अंकों के साथ सबसे आगे हैं. दूसरे नंबर पर उन्हीं के साथी लुइस हैमिल्टन हैं. 79 अंकों वाले रिकॉर्डो तीसरे और 69 अंकों के साथ फरारी के फर्नांडो अलोंजो चौथे नंबर पर हैं. 60 अंकों वाले वर्ल्ड चैंपियन फेटल के इस साल चैंपियन बनने की उम्मीदें धीरे धीरे पीछे छूटती जा रही हैं.

ओएसजे/एजेए (डीपीए, एएफपी)