1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

आई फोन देगा भूकंप से राहत

रिक्टर पैमाने पर 8.2 की तीव्रता वाला कोई भूकंप अटलांटिक महासागर में एक घनी आबादी वाले द्वीप पर तबाही मचाता है जिसमें हजारों लोग मरते हैं, घायल होते हैं. आप लोगों की जिंदगी कैसे बचाएंगे?

default

ये आईफोन के नए गेम एप्लीकेशन का शुरुआती वाक्य है. इस नए गेम को तैयार किया है सेव द चिल्ड्रन नाम के समाजसेवी संगठन की ऑस्ट्रेलियाई शाखा ने बच्चों को खेल खेल में ये बताने के लिए कि प्राकृतिक आपदा में राहत और बचाव के काम कैसे होते हैं.

Haiti Erdbeben Riss Straße Asphalt

खेल खेल में सीखो हादसों से निपटना

स्क्रीन पर सबसे पहले आता है अर्थक्वेक रिस्पांस जिसमें खिलाड़ियों को विडियो गेम की तरह के बने आइकन तक लोगों को ले जाना होता है. जैसे कि प्राथमिक उपचार के लिए टेंट, पानी या फिर हाउसिंग. ये चुनाव एक निश्चित समय के लिए होता है.

घड़ी की सूई चलने के साथ ही बचाए गए लोगों की संख्या खेलने वाले के खाते में जुड़ती जाती है. खिलाड़ी जैसे जैसे ऊपरी लेवल में पहुंचते जाते हैं स्क्रीन पर तस्वीरों का बदलना तेज होता जाता है. सेव द चिल्ड्रन के प्रवक्ता इयान वोल्वेरटॉन बताते हैं "ये खेल मजेदार तो है ही, खेलने वालों को जल्दी ही इसकी लत भी लग जाती है. लेकिन इसमें खेल के साथ एक गंभीर संदेश भी जुड़ा हुआ है और वो इस आपात मौकों पर बच्चों और उनके परिवारों की जिंदगी बचाने से जुड़ा है." खेल के दौरान स्क्रीन पर बचाव और राहत के कामों से जुड़ी जानकारियां भी आती रहती हैं.

इस साल अब तक पूरी दुनिया में 80 आपदाएं आ चुकी हैं जिनमें हैती का भूकंप भी है जिसमें दो लाख से ज्यादा लोग मारे गए और पाकिस्तान की बाढ़ भी है जिसका असर दो करोड़ से ज्यादा लोगों पर हुआ.

इस गेम का मकसद आज की उस युवा पीढ़ी को हादसों और बचाव के कामों के बारे में जानकारी देना है जो धड़ल्ले से इंटरनेट और दूसरी सूचना तकनीकों का इस्तेमाल करती है या फिर यूं कहें कि ज्यादातर वक्त ऑनलाइन रहती है. वोल्वेरटॉन कहते हैं कि 10 साल से ज्यादा उम्र का कोई भी इंसान इन खेलों का मजा ले सकता है. जल्दी ही लोगों को इसमें मजा आने लगता है और वो ज्यादा से ज्यादा लोगों की जान बचाने में जुट जाते हैं.

फिहलाल ये खेल आई ट्यून से मुफ्त में डाउनलोड किया जा सकता है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links