1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आईसिस के वीडियो में नई धमकी

"जिन इराकी सैनिकों में अब भी लड़ाई की हिम्मत बची है, उन्हें साथ बांधा जाएगा और फिर गोली मारी जाएगी." इराकी सेना का मनोबल तोड़ने के लिए अल कायदा ने यह वीडियो संदेश जारी किया है.

इराक के बड़े हिस्से को कब्जे में ले चुके आईसिस का यह वीडियो ईद के बाद अचानक फैलने लगा. 30 मिनट के वीडियो के जरिए इराकी सैनिकों को मनोवैज्ञानिक रूप से धमकाने की कोशिश की गई है.

2012 में अल कायदा की एक शाखा से शुरू हुए आईसिस के वीडियो में तेज हमले के बाद बंदी बनाए गए दर्जनों इराकी सैनिक भी दिखाई पड़ रहे हैं. उनके चेहरे पर डर का भाव है और हाथ बंधे हुए हैं. बंदी सैनिकों में से एक को आतंकवादी चिढ़ाते हैं. उसे बाकियों से अलग करते हैं. वो रहम के लिए गिड़गिड़ाता है, लेकिन तभी गोली चलती है. इसके बाद बाकी सैनिकों को रेत के टीले पर खड़ा किया जाता है और एके-47 से एक एक कर उनके सिर पर गोली मारी जाती है. सब मर चुके हैं यह तय करने के लिए आतंकवादी एक बार फिर गोली मारते हैं. एक और सीन में नदी के किनारे सैनिकों को खड़ा कर एक एक कर गोली मारते हुए दिखाया गया है.

वीडियो में यह भी कहा गया है कि आतंकवादी आगे का अभियान कैसे चलाएंगे. यह साफ नहीं हो सका है कि वीडियो कहां फिल्माया गया. पिछले महीने इराकी सेना से मुठभेड़ के बाद छीनी गई अमेरिकी हुम्वी जीप जरूर दिखाई पड़ रही है. पीछे कई पिक अप ट्रक हैं, जो सामने से आने वाली कुछ गाड़ियों पर रायफल की पूरी मैग्जीन खाली होने तक फायरिंग कर रहे हैं.

जानकार इस वीडियो को मनोवैज्ञानिक आतंक बता रहे हैं. बगदाद निवासियों और वहां के सुरक्षा अधिकारियों के मुताबिक समारा शहर सरकार के नियंत्रण में है, इसलिए हो सकता है कि यह वीडियो कहीं और फिल्माया गया हो. लेकिन यह आशंका तेज होती जा रही है कि आतंकवादी अब समारा पर बड़े हमले की तैयारी कर रहे हैं. वीडियो को जरिए वो लोगों और सैनिकों को संदेश दे रहे हैं कि वो बीच में न आएं.

इराक में बीते कुछ महीनों में फिर एक बार शिया-सुन्नी हिंसा में तेजी आई है. डर है कि कहीं यह 2006-2007 जैसी हिंसा का रूप न ले ले. एक तरफ सुन्नी उग्रपंथी हैं तो दूसरी तरफ सेना और उसके साथ खड़े शिया. करीब आधा इराक आईसिस की चपेट में है. सीरिया के बड़े इलाके और इराक को मिलाकर आईसिस नया राष्ट्र भी घोषित कर चुका है.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री