1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

आईपीएल-4 में मैचों की संख्या पर फैसला टला

आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की बैठक में चौथे सीजन में होने वाले मैचों की संख्या तय करने पर फैसला नहीं हो पाया है. 2011 में इंडियन प्रीमियर लीग में दस टीमें हिस्सा लेंगी, ऐसे में मैचों की संख्या बढ़नी तय मानी जा रही है.

default

शुक्रवार को मुंबई में आईपीएल गर्वनिंग काउंसिल की बैठक हुई लेकिन मैचों की संख्या पर फैसला टल गया. बीसीसीआई सचिव एन श्रीनिवासन ने बैठक के बाद बताया, "हमने आईपीएल अकाउंट पर चर्चा की और उसके बाद बीसीसीआई की वित्त समिति की बैठक हुई."

आईपीएल के उपाध्यक्ष निरंजन शाह ने भी पुष्टि की है कि आईपीएल खातों के अलावा शुक्रवार को हुई बैठक में किसी और मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई. हालांकि सितम्बर के पहले हफ्ते में गवर्निंग काउंसिल की बैठक होने वाली है जिसमें मैचों की संख्या तय करने पर फैसला लिया जा सकता है. निरंजन शाह के मुताबिक आईपीएल-4 में मैचों की संख्या पर अभी तक कोई प्रस्ताव भी पेश नहीं किया गया है.

Neugewählter Vorstand der indischen Cricket Kontrollstelle

फैसला टला

बीसीसीआई सूत्रों ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया है कि 2009-10 सीजन में बोर्ड को 39 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है. सुरक्षा कारणों से आईपीएल-2 दक्षिण अफ्रीका में कराया गया और बताया जा रहा है कि उसके चलते ही बोर्ड का खर्च बढ़ गया. उस दौरान बोर्ड के 83 करोड़ रुपये खर्च हुए.

आईपीएल के पहले तीन सीजन में टीमों की संख्या आठ रही है लेकिन अगले साल से दो नई फ्रैंचाइजी सहारा पुणे वॉरियर्स और कोच्ची जुड़ रही हैं.

बैठक से पहले आईपीएल सूत्रों ने बताया कि वर्तमान फॉर्मेट के हिसाब से आईपीएल-4 में मैचों की संख्या 94 बैठती है लेकिन इतने मैच कराया जाना संभव नहीं है. ऐसे में 73 या 74 मैच कराए जा सकते हैं. "अप्रैल-मई-जून में 94 मैच खेल पाना संभव नहीं होगा क्योंकि आईपीएल-4 तभी होना है. ऐसे में कुल मैच 73-74 तक सीमित किए जा सकते हैं." आईपीएल के पहले दो सीजन में 59 मैच कराए गए जबकि तीसरे सीजन में मैचों की संख्या 60 रही.

ऐसी रिपोर्टें हैं कि मैच संख्या तय करने के लिए तीन सदस्यों की एक समिति का गठन किया गया है जिसमें मंसूर अली खान पटौदी, सुनील गावस्कर और रवि शास्त्री शामिल हैं. इस मामले में अलग अलग राय सामने आ रही हैं और ऐसे में लंबे विचार विमर्श के बाद ही किसी फैसले पर पहुंचा जा सकेगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: आभा एम

DW.COM

WWW-Links