1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

आईपीएल पार्टियों ने हरायाः धोनी

टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का कहना है कि आईपीएल मैचों के बाद देर रात होने वाली पार्टियां वर्ल्ड कप में हार की वजह रहीं. उन्होंने कहा कि आईपीएल में लगातार यात्रा करना भी टीम के लिए काफी नुकसानदेह साबित हुआ.

default

हालांकि टूर्नामेंट के तौर पर धोनी आईपीएल को वर्ल्ड कप में हार की वजह नहीं मानते हैं. उनकी कप्तानी में चेन्नई ने इस साल आईपीएल का खिताब जीता है.

श्रीलंका से पांच विकेट से हार कर वर्ल्ड कप से बाहर होने के बाद टीम इंडिया के कप्तान ने कहा, "ज्यादातर खिलाड़ी फिट और तरोताजा थे. लेकिन खिलाड़ियों को सिर्फ क्रिकेट ही नहीं, बल्कि आईपीएल के साथ चलने वाली दूसरी चीजों को लेकर भी स्मार्ट रहने की जरूरत है. हमें अपने शरीर का सम्मान करना चाहिए और इसे परिस्थिति के मुताबिक ढलने का वक्त देना चाहिए क्योंकि आपको सिर्फ क्रिकेट ही नहीं खेलना है. पार्टियों में शामिल होने और लगातार सफर करने से इस पर खराब असर पड़ता है."

श्रीलंका से मिली हार के साथ ही भारत ने सुपर-8 के अपने सारे मैच गंवा दिए. 2007 में पहला ट्वेन्टी 20 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के लिए लगातार दूसरी बार यह बेहद खराब प्रदर्शन रहा. पिछले साल इंग्लैंड में खेले गए टी 20 वर्ल्ड कप में भी भारत सेमीफाइनल में नहीं पहुंच पाया था.

Suresh Raina Cricket Indien

रैना ने की अच्छी बैटिंग

हालांकि वर्ल्ड कप में मिली हार को धोनी आईपीएल में लगातार 45 दिन तक खेले गए मैचों से नहीं जोड़ते हैं. उनका कहना है, "आईपीएल से हमारे प्रदर्शन पर कोई असर नहीं पड़ा है. मैं यह नहीं कहूंगा कि आईपीएल से हमारी तैयारी प्रभावित हुई है. बल्कि इससे तो वर्ल्ड कप की तैयारी में मदद मिली है. इससे सुरेश रैना, रोहित शर्मा, रवींद्र जडेजा, प्रज्ञान ओझा और अमित मिश्रा जैसे खिलाड़ियों को निखरने का मौका मिला है."

कई जगहों से टीम की आलोचना हो रही है. लेकिन धोनी ने इसे नकार दिया और कहा, "मुझे ऐसी बातों से कुछ लेना देना नहीं. हमने सबसे अच्छा करने की कोशिश की. हम अपने देश के लिए खेले और देश के लिए हमारे मन में उन लोगों से ज्यादा सम्मान है, जो ऐसी बातें कहते हैं. वे जो चाहें, कह सकते हैं."

भारतीय टीम के कप्तान का कहना है कि टीम ने सबसे अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन इसका नतीजा नहीं मिला. लगातार हार से दुखी दिख रहे माही का कहना था, "जब भी हम खेलने गए, हमने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की. लेकिन आप हर बार तो सबसे अच्छा नहीं कर सकते हैं. हमने अपनी तरफ से बेहतरीन कोशिश की और जो कुछ भी हो सकता था, किया. फिर भी हम हार गए."

भारत के विकेटकीपर बल्लेबाज ने श्रीलंका की तारीफ करते हुए कहा कि पिछले साल की उपविजेता ने हरफनमौला प्रदर्शन किया. उन्होंने कहा, "आखिरी ओवरों में उन्होंने बेहतरीन बल्लेबाजी की. बॉलिंग करते हुए भी उन्होंने 13वें ओवर के बाद बहुत अच्छा प्रदर्शन किया."

धोनी का कहना है कि कप्तान के ऊपर हमेशा दबाव रहता है. उन्होंने कहा, "जब आप भारत के लिए खेलते हैं, तो हमेशा आप पर दबाव रहता है. यह खेल का हिस्सा है. मैंने आज तक ऐसा मैच नहीं खेला है, जिसमें मुझ पर दबाव न हो."

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संबंधित सामग्री