1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आईएस ने जॉर्डन के पायलट को बंदी बनाया

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने आईएस के हाथों जॉर्डन के पायलट को बंदी बनाए जाने की निंदा की है. इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों ने पायलट को उस समय कब्जे में ले लिया जब उसका जहाज उत्तरी सीरिया के करीब गिर गया.

इस्लामी कट्टरपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट ने घटना के बाद बंदी बनाए गए पायलट की कुछ तस्वीरें जारी की हैं. इस 26 वर्षीय पायलट का नाम लेफ्टिनेंट माज अल कसासबेह बताया जा रहा है. मानवाधिकार मामलों पर निगरानी रखने वाले सीरियाई संगठन और खुद आईएस लड़ाकों का कहना है कि विमान मिसाइल से गिराया गया. अमेरिका ने इसका खंडन किया है.

अमेरिका की केंद्रीय कमान सेंटकॉम ने एक बयान में कहा, "सबूत साफ तौर पर बताते हैं कि आईएस ने विमान को नहीं गिराया है जैसा कि आतंकी दल ने दावा किया है." सेंटकॉम ने स्वीकार किया कि एफ-16 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया है और पायलट को आईएस के कट्टरपंथियों ने बंधक बना लिया है. अधिकारियों का कहना है कि विमान तकनीकी कारणों से गिरा हो सकता है.

जॉर्डन उन देशों में से एक है जो सीरिया और इराक में आईएस के खिलाफ हवाई हमलों में अमेरिका का साथ दे रहे हैं. सीरिया में इस सितंबर शुरू हुए हवाई हमलों में यह पहली बार है जब कोई लड़ाकू विमान गायब हुआ है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने आईएस लड़ाकों से पायलट को छोड़ने की मांग की और कहा, "बंदी बनाए गए पायलट के साथ अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार कानूनों के तहत बर्ताव होना चाहिए"

jordanischer Pilot festgenommen

लेफ्टिनेंट माज अल कसासबेह इस विमान को उड़ा रहे थे.

सीरिया में रक्का के आसपास आईएस के खिलाफ नियमित रूप से हवाई हमले हो रहे हैं जिसे आईएस खिलाफत के एलान के बाद से अपने मुख्यालय के तौर पर इस्तेमाल कर रहा है. सीरिया और इराक के बड़े हिस्सों पर कब्जा कर जून में आईएस ने इन इलाकों में खिलाफत का एलान किया था और अपने नेता अबु बकर अल बगदादी को मुसलमानों का खलीफा घोषित किया था.

आईएस के लड़ाकों ने अपने नियंत्रण वाले इलाकों में बर्बर अत्याचार किए हैं. इनमें बंधक बनाए गए सैनिकों का नरसंहार, पश्चिमी बंधकों का सार्वजनिक रूप से सर कलम करना और लड़कियों की खरीद फरोख्त और बलात्कार शामिल है.

जॉर्डन की स्थानीय मीडिया ने बंदी बनाए गए पायलट के पिता के हवाले से लिखा है कि उनके परिवार को वायु सेना ने अपहरण के बारे में जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि उन्हें बताया गया है कि सेना उनके बेटे की जिंदगी बचाने की कोशिश कर रही है और किंग अब्दुल्लाह की घटनाक्रम पर नजर है. उन्होंने जिहादियों से रहम की भीख मांगी और कहा कि वे उनके बेटे को छोड़ दें. उन्होंने बताया कि उनका बेटा 6 सालों से वायु सेना की सेवा कर रहा था.

एसएफ/एमजे (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री