1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

आईएस को हराने के लिए सभी हुए एक

रूस और अमेरिका के अक्टूबर में होने जा रही शांति वार्ता में हिस्सा लेने की उम्मीद है. इस समूह को सीरिया संकट से जुड़े सबसे प्रभावशाली "बाहरी खिलाड़ियों" की बैठक बताया जा रहा है.

रूस के उप विदेश मंत्री ने बताया है कि शांति वार्ता में रूस और अमेरिका के अलावा ईरान, सऊदी अरब, तुर्की और मिस्र भी शिरकत करेंगे. सभी मिलकर आईएस से निबटने के उपायों पर चर्चा करने वाले हैं.

रूसी राष्ट्रपति पुतिन के न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए जाने वाले भाषण पर दुनिया भर की निगाहें लगी हैं. दो साल के लंबे अंतराल के बाद पुतिन इस बार अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा से आधिकारिक वार्ता भी करेंगे.

खबरें हैं कि युद्धग्रस्त सीरिया में असद प्रशासन की मदद के लिए पुतिन ने अपनी सैनिक टुकड़ियां और एयरक्राफ्ट भेजे हैं. अब पुतिन इस्लामिक स्टेट से लड़ने के लिए नए तरह के गठबंधन बनाने की बात भी कर रहे हैं. सीरिया और इराक के कई हिस्सों पर आईएस ने कब्जा कर रखा है. इससे असद सरकार और रूसी सेनाओं पर सीधा असर पड़ रहा है.

यूक्रेन संकट को लेकर पिछले करीब दो सालों से अमेरिका और बाकी पश्चिमी देशों के रूस के साथ तनावपूर्ण संबंध रहे हैं. इस्लामिक स्टेट के खिलाफ लड़ाई में साथ आने की बात कह कर पुतिन ने अचानक उनके खेमे में नाटकीय प्रवेश कर लिया है.

आरआर/आईबी (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री