1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

आइसक्रीम पार्लर में बेगुनाही के सबूत

पाकिस्तान के पूर्व टेस्ट टीम कप्तान सलमान बट का मानना है कि लंदन का एक आइसक्रीम पार्लर स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों में उनकी बेगुनाही साबित कर सकता है. इन आरोपों की वजह से बट क्रिकेट से निलंबित हैं.

default

बट ने कहा कि उनके पास जो हजारों पाउंड मिले थे वे आइस क्रीम पार्लर से ही आए थे. इंग्लैंड में अखबार न्यूज ऑफ द वर्ल्ड के खुलासे के बाद बट समेत कई पाक क्रिकेटरों के कमरों की तलाशी हुई. इस तलाशी में बट के कमरे में हजारों पाउंड रकम बरामद हुई. बट बताते हैं कि यह रकम उन्हें रोजाना के भत्तों, बैट की स्पॉन्सरशिप और उस आइसक्रीम पार्लर की ओपनिंग से मिली.

अगले महीने कतर में इस मामले की सुनवाई होनी है और सलमान बट इसी तर्क को अपने बचाव का आधार बनाने जा रहे हैं.

सलमान बट के पास पाकिस्तान की कप्तानी दो महीने से भी कम वक्त के लिए रही. वह भी उन्हें तब मिली जब अचानक शाहिद अफरीदी ने कप्तानी से हटने का फैसला कर लिया. लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में आखिरी मैच के दौरान उन पर स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने के आरोप लगे. न्यूज ऑफ द वर्ल्ड ने दावा किया कि बट और उनके दो गेंदबाजों ने पैसे लेकर नो बॉल फेंकने की साजिश रची.

Pakistan Cricket Manipulation

पाकिस्तान के कुछ खिलाड़ी मैच फिक्सिंग के आरोपों में

सोमवार को सलमान बट ने ब्रिटेन के टीवी चैनल स्काई स्पोर्ट्स को लाहौर में एक लंबा इंटरव्यू दिया. इंटरव्यू में जब उनसे उनके कमरे मिली 29000 पाउंड की रकम के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "सभी जानते हैं कि दौरों पर पीसीबी से हमें रोजाना भत्ता मिलता है. वह एक लंबा दौरा था. इसलिए उस रकम में से करीब 11,000 पाउंड मेरे रोजाना भत्तों से आया था."

बट बताते हैं कि कप्तान होने के नाते उन्हें अतिरिक्त भत्ते भी मिले जो कुल मिलाकर 45,00 पाउंड के करीब थे. बट के मुताबिक बाकी रकम उनके बैट पर लगे स्टीकर्स के स्पॉन्सरों से आई. वह कहते हैं, "लोग कुछ भी कहें, लेकिन मैं जानता हूं कि पैसा कहां से आया."

वह कहते हैं कि उनके पास मिला पैसा पूरी तरह साफ था और इसमें से 2500 पाउंड उन्हें लंदन के एक टूटिंग के आइसक्रीम पार्लर की ओपनिंग के लिए मिले थे. उन्होंने कहा, "आप कभी भी टूटिंग जाकर पूछताछ कर सकते हैं. शायद उस पार्लर का नाम आफ्टर्स है. जो लोग वहां काम करते हैं वे आपको बताएंगे कि मैं ओपनिंग पर वहां मोहम्मद आमेर के साथ गया था."

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM