1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

आंखें भीगो गया एक मासूम ख्बाव

जिस देश में गोलियों और बमों की आवाज से दशहत पसरती है, वहां पांच साल का एक बच्चा आंखों में ख्वाब लिये खेलता रहा. और जब उसका ख्वाब पूरा हुआ तो दुनिया की आंखें भीग उठी.

इसी साल फरवरी एक तस्वीर दुनिया भर में वायरल हुई. तस्वीर एक पांच साल के बच्चे की थी जो एक पॉलिथिन पहनता और फुटबॉल खेलता था. पॉलिथिन का रंग अर्जेंटीना की फुटबॉल टीम की जर्सी मिलता जुलता था. उस पर स्याही से मेसी और नंबर 10 लिखा था. अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में रहने वाले मुर्तजा अहमदी को इस तरह दुनिया जान गई.

यह बात बार्सिलोना के लिए खेलने वाले अर्जेंटीना के लियोनेस मेसी को भी पता चली. मेसी ने मुर्तजा के लिए अर्जेंटीना की एक टीशर्ट भी भिजवाई. यूनिसेफ के दूत मेसी ने मुतर्जा से मिलने की इच्छा भी जताई. उनके क्लब बार्सिलोना भी हामी भरी. और फिर मुर्तजा को बार्सिलोना लाने की तैयारी शुरू हुई.

इस बीच तालिबान की धमकी की रिपोर्ट भी सामने आई. एक बार ऐसा लगा कि मुर्तजा मेसी से मिलने नहीं जा सकेगा. लेकिन आखिरकार 10 महीने की जद्दोजेहद के बाद मुर्तजा 7,400 किलोमीटर दूर पहुंच ही गया. टीवी पर जिस मेसी को देखकर वो नकल करता था, वही मेसी मुर्तजा के सामने थे.

दोनों के बीच प्रेम और भावनाएं की डोर से बंधी थी कि दोनों ने एक दूसरे को बांहों में भर लिया. दोस्ताना मैच के दौरान नन्हा मुर्तजा हीरो बन गया.

DW.COM

संबंधित सामग्री