1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अहम हैं वर्ल्ड कप के क्वालिफायर

शुक्रवार को जर्मनी और आयरलैंड के बीच वर्ल्ड कप क्वालिफाइंग मैच होगा तो उधर दक्षिण अमेरिकी क्वालिफाईंग राउंड खत्म होने के करीब पहुंच रहा है. शुक्रवार को कोलंबिया और चिली तथा इक्वाडोर और ऊरुग्वे के मैच अहम होंगे.

क्वालिफाईंग राउंड के अंतिम मैच से पहले इन दोनों मैचों से तीन क्वालिफायर निकलेंगे, जबकि चार में सबसे खराब टीम का भी ब्राजील जाने का मौका खत्म नहीं होगा. उसे वर्ल्ड कप के अंतिम राउंड में जगह बनाने के लिए जॉर्डन के खिलाफ प्ले ऑफ में जाना पड़ेगा. मेजबान होने के कारण क्षेत्र की तगड़ी टीम ब्राजील को क्वालिफाईंग राउंड में नहीं जाना पड़ रहा है.

सीट पक्की

अर्जेंटीना के 14 मैचों में 29 प्वाइंट हैं और वह पिछले महीने ही टूर्नामेंट में जगह बना चुका है. दो बार वर्ल्ड कप जीत चुका अर्जेंटीना अपने घायल सुरस्टार लियोनेल मेसी के बिना पेरू के खिलाफ खेल रहा है. मैच में जीत हार से उस पर बहुत अधिक असर नहीं पड़ेगा, लेकिन वह क्वालिफायर में ग्रुप में पहले स्थान पर होना चाहता है. टीम के स्ट्राइकर सैर्जियो आगुएरो ने कहा है, "हम सब अच्छा कर रहे हैं. हम वर्ल्ड कप में बहुत ऊंचे स्तर पर घुसेंगे."

कोलंबिया फिलहाल तालिका में 26 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर है, जबकि उसका मेहमान चिली बस दो अंक पीछे 24 पर है. इक्वाडोर और ऊरुग्वे के 22-22 अंक हैं. ग्रुप में वेनेज्वेला के 19 अंक हैं, लेकिन अंतिम दौर में पहुंचने की संभावना बहुत कम है. टीम 15 मैच खेल चुकी है और शुक्रवार को पराग्वे के खिलाफ घरेलू मैदान पर होने वाला मैच उसका इस दौर का अंतिम मैच होगा. हालांकि सिद्धांत में वह इक्वाडोर या ईरुग्वे की बराबरी कर सकता है, लेकिन उसका गोल औसत दोनों ही टीमों से खराब है. तालिका में सबसे नीचे 14 अंकों के साथ पेरू और 11-11 प्वाइंट के साथ बोलिविया और पराग्वे हैं.

आसान नहीं लक्ष्य

कोलंबिया 1998 के बाद पहली बार वर्ल्ड कप में शामिल होने की संभावना को लेकर काफी उत्साहित है. हालांकि अर्जेंटीना में जन्मे कोच खोसे पेकेरमन की टीम को पता है कि यह काम इतना आसान नहीं. चिली की टीम भी बहुत मजबूत है और वे लगातार दूसरी बार वर्ल्ड कप में पहुंचने के लिए खेल रहे हैं. कोलंबिया के डिफेंडर पाब्लो अरमेरो कहा कहना है, "यह आसान मैच नहीं होगा, इसलिए हमें जिम्मेदारी से खेलने की जरूरत है. हम उनके हमलों को नाकाम करने और उन्हें मुश्किल में डालने पर मेहनत कर रहे हैं."

चिली ने दूसरे मैचों पर अटकल लगाने से मना कर दिया है जिसके नतीजे इसके वर्ल्ड कप में पहुंचने की संभावना पर असर डाल सकते हैं. कोच खोर्खे साम्पाओली कहते हैं, "फिलहाल सबसे अहम मैच कोलंबिया के खिलाफ है और हमारी जिम्मेदारी वहां चिली को क्वालिफाई कराना है."

2010 के वर्ल्ड कप में चौथे स्थान पर रहने वाले और एक साल बाद कोपा अमेरिका जीतने वाले उरुग्वे और इक्वाडोर का मैच बहुत अहम है. जो भी यह मैच जीतेगा, वह सीधे वर्ल्ड कप के अंतिम दौर में पहुंच जाएगा जबकि मैच हारने वाले को प्ले ऑफ में एक और कोशिश करनी होगी. इक्वाडोर के डिफेंडर फ्रिकसन एराजो कहते हैं, "यह मैच बहुत ही संघर्ष वाला होगा."

जो टीमें इस हफ्ते वर्ल्ड कप की सीट हासिल नहीं कर पाएंगी उन्हें अगला मौका जल्द ही मिलेगा. मंगलवार को होने वाले अंतिम राउंड में मुकाबले ऊरुग्वे और अर्जेंटीना, पाराग्वे और कोलंबिया, चिली और इक्वाडोर और पेरू और बोलिविया के बीच होंगे. हर कोई वर्ल्ड कप में पहुंचने का लक्ष्य इसी हफ्ते हासिल करना चाहता है, उसे अगले हफ्ते पर छोड़ना नहीं चाहता. शुक्रवार की रात जश्न की रात हो सकती है.

एमजे/एनआर (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री