1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

असांज ने कहा दूतावास छोड़ेंगे

विकीलीक्स के संस्थापक जुलियान असांज ने कहा है कि वह जल्द ही लंदन के इक्वाडोर दूतावास की इमारत छोड़ देंगे. शरण के इंतजार में असांज ने दो साल वहां गुजारे हैं.

संवाददाता सम्मेलन में असांज ने सोमवार को घोषणा की कि वह जल्द ही दूतावास छोड़ देंगे. हालांकि उन्होंने अपने जाने की तारीख और कारण नहीं बताए. साथ ही इस बारे में भी कोई जानकारी नहीं दी कि वह कहां जाने वाले हैं.

43 साल के ऑस्ट्रेलियाई नागरिक असांज इक्वाडोर के दूतावास के छोटे से अपार्टमेंट में दो साल से भी ज्यादा से रह रहे हैं. बताया जाता है कि उन्हें फेफडों में परेशानी है और उच्च रक्तचाप भी है. असांज ने पुष्टि की है कि उनका स्वास्थ्य खराब हो रहा है. हालांकि उन्होंने ये साफ नहीं किया कि क्या यही दूतावास छोड़ने का कारण है या नहीं.

जून 2012 में स्वीडन में प्रत्यर्पित किए जाने से बचने के लिए उन्होंने लंदन के इस दूतावास में शरण ली थी. उन पर यौन अपराध के आरोप हैं. उन्होंने संवाददाताओं से कहा, "मैं जल्द ही दूतावास छोड़ रहा हूं लेकिन रुपर्ट मैर्डोक और उनके जैसी समाचार सर्विस जो इस समय बता कर रही हैं, उन कारणों से नहीं."

प्रत्यर्पण का डर

ब्रिटिश अधिकारी तो असांज को दस दिन के अंदर ही स्वीडन को प्रत्यर्पित कर देना चाहते थे. अगर वो इन दो साल के अंदर दूतावास छोड़ते तो उन्हें तुरंत गिरफ्तार कर लिया जाता. माना जा रहा था कि जैसे ही असांज स्वीडन के हवाले होते, वहां के अधिकारी उन्हें अमेरिकी न्याय विभाग को सौंप देते. अमेरिका में फिर उन पर अमेरिकी सेना के बारे में संवेदनशील और गोपनीय जानकारी को प्रकाशित करने का मुकदमा चलाया जाता.

विकीलीक्स की प्रवक्ता क्रिस्टिन रैपसुन ने कहा कि असांज तब तक दूतावास से नहीं जाएंगे जब तक ब्रिटेन की सरकार के साथ कोई समझौता नहीं हो जाता.

इक्वाडोर के विदेश मंत्री रिकार्डो पाटिनो भी संवाददाता सम्मेलन में मौजूद थे. उन्होंने आश्वासन दिया कि असांज इक्वाडोर के संरक्षण में रहेंगे. इक्वाडोर ने उन्हें अमेरिका को प्रत्यर्पण से बचने के लिए शरण दी थी. अमेरिका की सरकार विकीलीक्स और अमेरिकी सैनिक चेल्सी मैनिंग के बीच संपर्कों की जांच कर रही है. उन्हें गोपनीय सरकारी दस्तावेज लीक करने का दोषी पाए जाने पर 35 साल जेल की सजा दी गई है.

2010 में विकीलीक्स की वेबसाइट पर अमेरिकी सैन्य और कूटनीतिक दस्तावेज लीक किए गए थे.

एएम/एमजे (एएफपी, रॉयटर्स)