1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

असम की बाढ़ में लाखों लोग बेघर

असम में बाढ़ के पानी ने कई जिलों को अपनी चपेट में ले लिया है. कम से कम चार लाख लोगों को अपना घर छोड़ कर सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ा है.

Indien Rikscha in Guwahati (Getty Images/AFP/B. Boro)

फाइल

भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम में आयी बाढ़ के कारण इस साल अप्रैल से अब तक 18 लोगों की मौत हुई है. इसके अलावा लाखों लोग बेघर हो गये हैं.

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के एक वरिष्ठ अधिकारी राजीब प्रकाश बरुआ ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, "मानसून अभी भी चल रहा है. हर घंटे घटनाक्रम बदल रहा है."

बरुआ ने बुधवार को कहा, "देश के उत्तर पूर्वी राज्य में अप्रैल माह से मानसून शुरू हो चुका है और तब से 18 लोगों की मौत हो चुकी है. एक व्यक्ति की मौत कल हुई जिससे पिछले हफ्ते मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर पांच हो गया."

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक असम के 15 जिलों के 853 गांव बाढ़ की चपेट में हैं और 4 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. पीड़ितों के लिए सरकार ने 41,487 अस्थाई राहत शिविर लगाये हैं. बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला इलाका करीमगंज है जहां लगभग 1 लाख अस्सी हजार लोग बाढ़ प्रभावित हैं. 

पिछले दो हफ्तों से ब्रह्मपुत्र खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और आने वाले दिनों में बाढ़ की स्थिति और अधिक खराब होने की आशंका है.

गुवाहाटी से 90 किलोमीटर दूर नलबाड़ी में बाढ़ के पानी में एक स्कूल के बह जाने के बाद 400 बच्चों को वहां से सुरक्षित निकाला गया. भूस्खलन के चलते पड़ोसी राज्य अरुणाचल प्रदेश के भी कई जिलों के लिए रास्ते बंद हो गए हैं.  

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने मंगलवार को बताया कि भोजन की आपूर्ति के लिए पहुंचा इंडियन एयरफोर्स का एक हेलीकॉप्टर भी खराब मौसम के चलते गायब हो गया है. किरण रिजिजू अरुणाचल प्रदेश का दौरा करने पहुंचे थे, लेकिन खराब मौसम के चलने उनका हेलीकॉप्टर तूफान में फंस गया था और बाद में उसे आपात स्थिति में उतारना पड़ा था. 

एसएस/एनआर(एएफपी/एपी)

 

DW.COM

संबंधित सामग्री