1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अश्वेत किशोर की हत्या का मामला गर्माया

अमेरिकी शहर फर्गसन में अश्वेत किशोर की पुलिस द्वारा हत्या का मामला गर्माता जा रहा है. प्रदर्शनकारी सफाई मांग कर रहे हैं कि निहत्थे किशोर पर गोली क्यों चलाई गई. राज्य पुलिस ने सुरक्षा इंतजाम अपने हाथ में लिया.

घटना सेंट लुइस की है जहां अश्वेत लोग बड़ी संख्या में हैं. 18 वर्षीय माइकल ब्राउन की हत्या के बाद से हिंसक प्रदर्शनों के साथ स्थानीय लोगों का विरोध जारी है. प्रदर्शनकारियों की मांग है कि घटना में लिप्त पुलिस अधिकारी का नाम सामने लाया जाए और मामले की जांच निष्पक्ष रूप से हो. सेंट लुइस के सरकारी वकील एड्वर्ड मैगी का कहना है कि पुलिस अधिकारी का नाम तभी सामने लाया जाएगा जब छानबीन के बाद उस पर आरोप साबित हो जाता है.

मामले पर स्थानीय पुलिस के रवैये की खासी आलोचना के बाद मिसूरी राज्य के गवर्नर जे निक्सन ने कहा कि मामले की पूरी तरह छानबीन होगी. उन्होंने कहा, "सुरक्षा संबंधी परिवर्तन इसलिए किए गए हैं ताकि प्रदर्शन शांतिपूर्ण ढंग से हों, बल का इस्तेमाल बहुत जरूरी होने पर ही किया जाए." लेकिन उनके इस एलान के बाद ही इस हफ्ते प्रदर्शनों के दौरान कई वाहनों को आग लगा दी गई और पुलिस ने आंसू गैस छोड़ी.

स्थानीय पुलिस का कहना है कि ब्राउन और उसका एक साथी पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए. पुलिस के मुताबिक उनमें से एक व्यक्ति ने पुलिस अधिकारी को कार में ढकेल कर हाथापाई की और उससे बंदूक छीनने की कोशिश की. लड़ाई वाहन से सड़क पर उतर आई जहां पुलिस ने ब्राउन पर कई गोलियां चलाईं. फर्गसन पुलिस प्रमुख थॉमस जैक्सन का कहना है कि घटना में उनके अधिकारी को काफी चोट आई और उसका चेहरा एक तरफ से सूज गया है.

फर्गसन में ही रहने वाले डोरियन जॉन्सन का कहना है कि वह घटना के समय ब्राउन के साथ मौजूद थे. जॉनसन ने बताया कि पुलिस ने उन्हें गाड़ी से उतरने को कहा, फिर ब्राउन की गर्दन पकड़ ली. ब्राउन ने भागने की कोशिश की लेकिन उन्होंने उसे पकड़ लिया. जॉनसन और मौके पर मौजूद दूसरे गवाहों का कहना है कि जब पुलिस ने उस पर कई बार गोली चलाई उस समय वह हाथ ऊपर कर आत्म समर्पण की अवस्था में था. जॉनसन प्रदर्शनकारियों को भी शांति बनाए रखने के लिए समझा रहे हैं. उनके साथ सड़क पर उतरे करीब 1000 प्रदर्शनकारियों के हाथ में बैनरों पर लिखा था कि हाथ ऊपर होने पर गोली न चले.

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. उन्होंने कहा कि शूटिंग के बाद हो रहे प्रदर्शनों पर पुलिस द्वारा बल के प्रयोग करने की कोई दलील नहीं है. ओबामा ने कहा कि उन्होंने न्याय विभाग और एफबीआई से मामले की पूरी छानबीन करने को कहा है.

एसएफ/एएम (एपी/रॉयटर्स)

संबंधित सामग्री