1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अश्लील फोटो पर गई डॉक्टरी

जर्मनी में चोरी छिपे महिला मरीजों की तस्वीर निकालने वाले स्त्रीरोग विशेषज्ञ को एक स्थानीय अदालत ने साढ़े तीन साल की सजा सुनाई है. आरोपी अब तक एक हजार महिला मरीजों के निजी अंगों की तस्वीरें निकाल चुका था.

पश्चिमी जर्मनी के राइनलैंड पैलाटिनाटा के फ्रैंकहैंटल शहर की अदालत ने 58 वर्षीय स्त्रीरोग विशेषज्ञ को साढ़े तीन साल की सजा दी है. जब महिला मरीज डॉक्टर के पास अपना इलाज कराने आती तो वह जांच के बहाने चोरी छिपे महिलाओं के निजी अंगों की तस्वीरें निकाल लेता. पुलिस को लगता है कि दोषी डॉक्टर ने दो हजार से ज्यादा महिलाओं की तस्वीरें निकाली हैं. सैकड़ों पीड़ित महिलाओं ने आरोप लगाने से इनकार कर दिया.

जर्मनी में मीडिया की गोपनीयता को लेकर बने दिशा-निर्देशों के मुताबिक डॉक्टर का नाम सार्वजनिक नहीं किया जा सकता. डॉक्टर ने कोर्ट में बयान दिया कि वो इस काम के लिए शर्मिंदा है. डॉक्टर ने कोर्ट में कहा है, "मुझपर बुरा चरित्र हावी हो गया था." डॉक्टर के दो कर्मचारियों को उस वक्त शक हुआ जब उन्होंने देखा कि जब भी कोई मरीज डॉक्टर के पास आती वह अपनी कुर्सी के पास लगी दराज खोलता और बंद करता.

Prozess gegen Frauenarzt in Frankenthal Deutschland

फ्रैंकहैंटल की अदालत में डॉक्टर पर सुनवाई

साल 2011 में जब डॉक्टर की महिला कर्मचारियों ने दराज की तलाशी ली तो उन्होंने एक डिजिटल कैमरा पाया. कैमरे में महिला मरीजों की तस्वीरें थीं. उसके बाद कर्मचारियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी.

अदालत ने डॉक्टर को यौन शोषण के तीन अपराधों में दोषी पाया. अदालत ने पाया कि कुछ जांच गलत तरीके से किए गए थे. बचाव पक्ष के वकील ने कोर्ट में दलील दी थी कि आरोपी को कम सजा मिले क्योंकि उसने अपना जुर्म कबूल लिया था. साथ ही डॉक्टर ने सबूत और मरीजों के बारे में बताने में मदद की थी. कुछ महिला मरीजों के वकीलों ने कड़ी सजा की मांग की थी.

Prozess gegen Frauenarzt in Frankenthal Deutschland

आरोपी डॉक्टर

उनके मुताबिक आगे से महिला मरीज किसी पुरुष स्त्रीरोग विशेषज्ञ के पास जाने से बचेंगी. फैसला सुनाते हुए जज ने कहा, ''डॉक्टर ने जीवन के सबसे अधिक व्यक्तिगत हिस्से का उल्लंघन किया है.'' डॉक्टर से मेडिकल लाइसेंस छीन लिया गया है और वो आगे कभी प्रैक्टिस नहीं कर पाएगा.

डॉक्टर ने साल 2008 और 2011 के बीच यह तस्वीरें निकाली थी. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक डॉक्टर कपड़े बदलने वाले कमरे के अलावा जांच टेबल पर तस्वीरें निकालता था. इसके अलावा डॉक्टर के पास से दर्जनों वीडियो भी मिले थे.

एए/एनआर (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री