1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

अल जजीरा की सोशल मीडिया से गुहार

मिस्र में चल रहे तनाव के बीच सरकार ने टीवी न्यूज चैनल अल जजीरा के दफ्तर पर ताला लगा दिया है. चैनल ने बलॉगरों से मदद मांगी है. मंगलवार को प्रदर्शनकारी सरकार के खिलाफ एक बड़ा मार्च निकालेंगे.

default

अरब न्यूज चैनल अल जजीरा ने सोशल मिडिया से मदद मांगी है. रविवार को मिस्र में अधिकारियों ने अल जजीरा का काहिरा दफ्तर बंद करा दिया. उनका कहना है कि चैनल दिन रात प्रदर्शनों को जिस तरह से दिखा रहा है उस से हालात और भी ज्यादा उग्र हो सकते हैं. अल जजीरा ने अब इंटरनेट के जरिए लोगों से प्रदर्शनों के वीडियो इकट्ठा करने के लिए कहा है. कतर स्थित न्यूज चैनल अल जजीरा ने एक बयान में कहा है कि प्रत्यक्षदर्शी अपने ब्लॉग द्वारा उन्हें तस्वीरें भेजें और आंखों देखा हाल बयान करें.

हालांकि अल जजीरा अब राष्ट्रपति होस्नी मुबारक के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों को अब खुल कर नहीं दिखा पा रहा है लेकिन फोन द्वारा रिपोर्टिंग अब भी जारी है. सरकार के दफ्तर बंद करा देने के कारण रिपोर्टर कैमरा ले कर बाहर नहीं निकल पा रहे हैं.

इस बीच प्रदर्शनकारियों ने सोमवार को अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू करने का फैसला किया है. साथ ही मंगलवार को प्रदर्शनों के एक सप्ताह पूरे होने पर एक बड़े मार्च की भी अपील की है. 'मिलियन मैन मार्च' में लाखों की संख्या में लोगों के हिस्सा लेने की उम्मीद की जा रही है. प्रदर्शनों के एक आयोजक ईद मोहम्मद ने बताया कि रविवार रात यह फैसला लिया गया. काहिरा के ताहिर स्क्वेयर पर कल सारी रात लोगों ने डेरा जमाए रखा. वे सारी रात नारे लगाते रहे "हम तब तक यहां बने रहेंगे जब तक वो कायर चला नहीं जाता". पिछले तीन दशकों में मिस्र में यह सबसे उग्र प्रदर्शन हैं.

रिपोर्ट: एजंसियां/ईशा भाटिया

संपादन: ओ सिंह

DW.COM