1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अलविदा कहता टाइपराइटर

एक जमाना था जब किसी भी दफ्तर का काम टाइपराइट के बिना नहीं चलता था. लेकिन कंप्यूटर के आने के बाद सब कुछ बदल गया. बहरहाल अब कई लोगों के लिए यही खट खटाता पुराना टाइपराइटर रोजी रोटी का जरिया है.

वीडियो देखें 00:53

बीते टाइपराइटर के दिन

भारत में कई जगहों पर अब भी टाइपराइटर का इस्तेमाल होता है. लेकिन नए टाइपराइटों का उत्पादन बंद होने से ये खटखटाती मशीनें इतिहास का हिस्सा बन जाएंगी.

DW.COM

और पढ़ें