1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अर्जेंटीना पर बुरी याद का साया

अर्जेंटीना और नाइजीरिया के ग्रुप मुकाबले ने दो बार विश्व चैंपियन रहे अर्जेंटीना के लिए दुखद यादें ताजा कर दी हैं. बीस साल पहले ठीक इसी दिन नाइजीरिया के खिलाफ मैच में डिएगो माराडोना को डोपिंग टेस्ट के लिए चुना गया था.

पांच दिन बाद डोपिंग टेस्ट का नतीजा सामने आ गया था और 33 वर्षीय फुटबॉल स्टार के लिए करियर का अंत हुआ. 1986 में विश्व चैंपियन रहे माराडोना को प्रतिबंधित शक्तिवर्द्धक एफेड्रीन लेने का दोषी पाया गया और टूर्नामेंट में भाग लेने से रोक दिया गया. पॉजीटिव डोपिंग की वजह से दुनिया के एक महान खिलाड़ी का करियर समाप्त हो गया और अर्जेंटीना को 1994 के वर्ल्ड कप से बाहर होना पड़ा.

तब तक टूर्नामेंट माराडोना और अर्जेंटीना दोनों ही के लिए अच्छा चल रहा था. ग्रीस के खिलाफ पहले मुकाबले में 4-0 की जीत और दूसरे मुकाबले में नाइजीरिया पर 2-0 की जीत. जिस दिन माराडोना के डोपिंग टेस्ट का पॉजीटिव नतीजा आया उसी दिन अर्जेंटीना बुल्गारिया के खिलाफ अपना अंतिम ग्रुप मैच खेल रहा था. इस खबर की वजह से हैरान टीम 0-2 से हार गई और कुछ दिन बाद प्री क्वार्टर फाइनल में रोमानिया से 2-3 गोल से हार कर बाहर हो गई.

बीस साल बाद एक बार फिर ग्रुप स्तर पर अर्जेंटीना का मुकाबला नाइजीरिया से है जबकि 1998 में वर्ल्ड कप जीतने वाला फ्रांस बुधवार को रियो में इक्वाडोर से भिड़ रहा है. दोनों ही टीमें अगले दौर में जाने की दावेदार हैं. फ्रांस को प्री क्वार्टर फाइनल में जाने के लिए ड्रॉ चाहिए. टीम का कहना है कि वे ग्रुप ई के मैच पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और उसे जीतना चाहते हैं.

इसकी एक वजह और है और फ्रांस जीत से प्री क्वार्टर फाइनल में अर्जेंटीना के खिलाफ खेलने से बच जाएगा. लेकिन इक्वाडोर अपना एक मैच जीत चुका है और यदि वह फ्रांस को हरा देता है तो टूर्नामेंट स्विट्जरलैंड के लिए दिलचस्प हो जाएगा. स्विट्जरलैंड भी एक मैच जीत चुका है और उसके तीन प्वाइंट हैं. उसे होंडुरास के खिलाफ खेलना है जो अपने पहले दो मैच हार चुका है और उसके पास इस समय कोई प्वाइंट नहीं है. इसलिए स्विट्जरलैंड की जीत को संभव माना जा रहा है.

ग्रुप एफ में अर्जेंटीना अपने दोनों मैच जीत चुका है और उसके 6 प्वाइंट हैं. पहले अपने ग्रुप में पहले नंबर पर है और उसका मुकाबला नाइजीरिया के साथ है जो चार प्वाइंट के साथ दूसरे नंबर पर है. नाइजीरिया का कहना है कि वे पोर्तो अलेग्रे में होने वाले मुकाबले में पूरे साहस के साथ जा रहे हैं. स्ट्राइकर अहमद मूसा ने कहा, "अर्जेंटीना के पास एक बड़ी टीम है और बड़े किलाड़ी हैं, लेकिन हमें उनसे डर नहीं हैं. यह बड़ों का मुकाबला होगा."

ग्रुप एफ का दूसरा मुकाबला ईरान और बोसनिया हैर्जेगोविना के बीच होगा. बोसनिया पहले ही टूर्नामेंट से बाहर हो चुका है. ईरान एक मैच हारा और एक ड्रॉ खेल चुका है. बुधवार के मुकाबले से पहले उसके पास एक प्वाइंट है. बोसनिया पर जीत उसकी जीत इस ग्रुप में हलचल मचा सकती है, लेकिन दूसरे स्थान पर पहुंचने के लिए उसे बड़े अंतर से जीतना होगा. शर्त यह होगी कि अर्जेंटीना नाइजीरिया को हरा दे.

एमजे/ओएसजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री