1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अय्यर का बयान राष्ट्र विरोधी: कलमाड़ी

कॉमनवेल्थ खेलों की खिंचाई से भड़के सुरेश कलमाड़ी ने पूर्व खेल मंत्री मणिशंकर अय्यर पर निशाना साधा. कॉमनवेल्थ खेल आयोजन समिति के सदस्य कलमाड़ी ने अय्यर के बयानों को गैर जिम्मेदार और राष्ट्र विरोधी कहा.

default

कॉमनवेल्थ खेलों के नाम पर हो रहे बेतहाशा खर्च की आलोचना करने वाले अय्यर के बयान से भारतीय ओलंपिक संघ और कॉमनवेल्थ खेल आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी बौखला गए. कलमाड़ी ने अय्यर को गैर जिम्मेदार और राष्ट्र विरोधी करार दे दिया. कलमाड़ी ने कहा, ''एक अकेला खेलों के आयोजन में खलल नहीं डाल सकता. इतने बड़े व्यक्ति का इस तरह का बयान देना गैर जिम्मेदाराना और निंदनीय है. कोई भी भारतीय ऐसी बात नहीं कर सकता है.''

खेल मंत्रालय के निशाने पर रहने वाले कलमाड़ी ने अय्यर की राष्ट्र प्रेम की भावना पर भी चोट की. उन्होंने कहा कि राज्यसभा में देश विरोधी बयान देने से पहले उन्हें सोच विचार करना चाहिए था.

वैसे अब भारत सरकार के खेल मंत्रालय और सुरेश कलमाड़ी के बीच की लड़ाई और तीखी हो गई है. खेल मंत्री एमएस गिल से कलमाड़ी आए दिन उलझते रहते हैं. अब उन्होंने सबसे पढ़े लिखे नेताओं में गिने जाने वाले मणिशंकर अय्यर पर पलटवार किया है. जाहिर है अब कलमाड़ी के प्रदर्शन और कार्यकाल को लेकर भी सवाल उठेंगे, जिनका जवाब देते हुए कलमाड़ी को बगले झांकने पड़ सकती हैं.

Mani Shankar Aiyar

अय्यर के बयान से कलमाड़ी तिलमिलाए

कलमाड़ी भले ही अब भी खूब बरस रहे हों लेकिन कई लोग कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व खेल मंत्री मणिशंकर अय्यर की बात का समर्थन भी कर रहे हैं. अय्यर ने सोमवार को कहा कि अगर कॉमनवेल्थ खेल सफल ढंग से हुए तो उन्हें दुख होगा. अय्यर के मुताबिक देश के सामने कई बड़ी समस्याएं खड़ी हैं ऐसे में कॉमनवेल्थ खेलों की रट लगाना या उनके नाम पर पैसा बहाना समझ के परे है.

अय्यर ने कहा 'शैतानी ताकतें' राष्ट्रमंडल खेलों को देशप्रेम से जोड़ना चाह रही हैं. उन्होंने कहा, खेलों पर 35 हजार करोड़ रुपये खर्च करने की बजाए इस रकम को बच्चों पर खर्च किया जाए. अय्यर के मुताबिक, "हजारों करोड़ रुपये इस तरह सर्कस पर खर्च किए जा रहे हैं जबकि करोड़ों बच्चों को खेलने जैसी बुनियादी सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं."

रिपोर्ट: पीटीआई/ओ सिंह

संपादन: एस गौड़

DW.COM

WWW-Links