1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अयोध्या विवाद पर फैसले से पहले शांति की अपील

अयोध्या विवाद पर इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले से ठीक पहले केंद्र सरकार कानून व्यवस्था के प्रति चिंतित है और उसने सभी पक्षों से शांति की अपील की है. अयोध्या विवाद पर 24 सितम्बर को आएगा फैसला.

default

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक हुई जिसमें एक प्रस्ताव पारित हुआ और फैसला आने के बाद शांति बनाए रखने की अपील की गई. सूचना और प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने मीडिया को बताया, "यह सभी को समझने की जरूरत है कि अदालत के फैसले को आदर के साथ सुना जाना चाहिए. हमें यह भी याद रखना चाहिए कि यह फैसला न्यायिक प्रक्रिया में एक कदम है. इस फैसले से मुद्दे पर अंतिम मुहर तब तक नहीं लग सकती जब तक यह हर पक्ष को स्वीकार्य न हो."

Indien Unruhen in Ayodhya

सरकार ने साफ किया है कि अगर किसी पक्ष को लगता है कि इस मुद्दे पर न्यायालय को और विचार करना चाहिए तो उस संबंध में कानूनी प्रक्रियाओं का पालन किया जा सकता है. "यह जरूरी है कि भारत में हर वर्ग यह समझे की फैसले के बाद देश में शांति और सौहार्द का वातावरण बनाए रखना बेहद जरूरी है." हाल के दिनों में चिंता जाहिर की गई है कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर हाई कोर्ट का फैसला आने के बाद सांप्रदायिक तनाव बढ़ सकता है.

कैबिनेट की ओर से जारी प्रस्ताव में कहा गया है कि किसी भी गुट, संगठन या समूह को दूसरे वर्ग की भावनाओं को भड़काने या फिर उन्हें चोट पहुंचाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए.

उधर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने कहा है कि अगर कोर्ट का फैसला उनके खिलाफ भी आता है तो आपाधापी में कोई कदम नहीं उठाया जाएगा. "कोर्ट के फैसले का आदर करते हुए आगे की रणनीति पर विचार किया जाएगा. हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि लोगों की भावनाएं हिंदू संगठनों के खिलाफ न हो जाएं."

60 साल पुराने विवाद पर फैसले से कुछ दिन पहले हाई कोर्ट की स्पेशल बेंच ने दोनों पक्षों के वकीलों को बैठक के लिए बुलाया ताकि आपसी मेलमिलाप से मामले को सुलझाया जा सके. हाई कोर्ट को इस विवाद पर 24 सितम्बर को फैसला देना है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: आभा एम

DW.COM

WWW-Links