1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अयोध्या मामला सुप्रीम कोर्ट में

भारत में सुप्रीम कोर्ट से अयोध्या मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर फिलहाल किसी तरह का आदेश पारित न करने की मांग की गई है. फैसले के बाद इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में यह पहली याचिका है.

default

छह दशक पुराने इस मामले के एक पक्षकार अखिल भारत हिंदू महासभा ने सुप्रीम कोर्ट में केवियट याचिका दायर की है. इसमें अदालत से इलाहाबाद हाईकोर्ट के 30 सितंबर को सुनाए गए फैसले के खिलाफ दायर की जाने वाली किसी भी याचिका पर कोई अंतरिम आदेश पारित न करने का अनुरोध किया गया है.

याचिका के अनुसार हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली किसी भी याचिका पर सुनवाई से पहले हिंदू महासभा की अर्जी पर सुनवाई की जाए. संगठन की महासचिव इंदिरा तिवारी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट में यह याचिका हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणी ने दायर की है.

Mahant Dharam Das

तिवारी ने बताया कि संगठन का स्पष्ट मानना है कि इस मामले का सिर्फ कानूनी हल निकल सकता है इसलिए सुलह के जरिए विवाद का समाधान खोजने की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई से पहले इस याचिका पर सुनवाई की मांग करते हुए महासभा ने अपील की है.

उन्होंने कहा, "हम किसी भी तरह के सुलह समझौते के खिलाफ हैं और इस मामले में सिर्फ कानूनी समाधान चाहते हैं. हम अयोध्या में भव्य राममंदिर बनाना चाहते हैं इसलिए भविष्य में किसी तरह के विवाद से बचने के लिए मामले के कानूनी समाधान के पक्षधर हैं."

कुछ और पक्ष भी इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने पर विचार कर रहे हैं.

रिपोर्टः पीटीआई/निर्मल

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links