1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

अमेरिकी प्रशासन ने चीनी मुद्रा पर रिपोर्ट टाली

चीन के राष्ट्रपति हू चिनथाओ की अमेरिका यात्रा की पुष्टि के बाद अमेरिका ने चीन पर अपनी मुद्रा की हेराफेरी का आरोप लगाने पर फ़ैसला टाल दिया है.

default

युआन पर शक

अमेरिकी वित्तमंत्री टिमोथी गाइथनर ने कहा है कि वे 15 अप्रैल को जारी होने वाली रिपोर्ट टाल रहे हैं जिसमें सरकार यह बताती कि क्या चीन अपनी मुद्रा की हेराफेरी कर रहा है, लेकिन साथ ही कहा है कि वे चीन पर नमनशील मौद्रिक नीति के लिए दबाव डालते रहेंगे.

राष्ट्रपति बराक ओबामा और चीनी राष्ट्रपति हू चिनथाओ की टेलिफ़ोन बातचीत के बाद गुरुवार को पेइचिंग में घोषणा की गई थी हू 12 और 13 अप्रैल को परमाणु सुरक्षा शिखर भेंट में भाग लेने वाशिंगटन जाएंगे. वित्तमंत्री गाइथनर का फ़ैसला मुद्रा से संबंधित विवाद को नियंत्रण में रखने का क़दम लगता है. ओबामा प्रशासन ईरान के विवादास्पद परमाणु कार्यक्रम को बंद करवाने के लिए व्यापक समर्थन जुटाने का प्रयास कर रहा है. सुरक्षा

Hu Jintao und Achmadinedschad

ईरान के सिलसिले में हू के मदद की ज़रूरत

परिषद के वीटोधारी सदस्य चीन का साथ ईरान के ख़िलाफ़ किसी भी प्रकार का प्रतिबंध लगाने के लिए ज़रूरी होगा. चीन की मौद्रिक नीति पर विवाद इस समय अनुकूल नहीं होगा.

प्रेक्षकों का मानना है कि हू के वाशिंगटन दौरे के कुछ ही दिन बाद चीन को हेराफेरी करने वाला बताना पेइचिंग के चेहरे पर तमाचे जैसा होता. गाइथनर ने कहा है कि वे जी-20 देशों के वित्तमंत्रियों की बैठक और पेइचिंग में अमेरिकी चीन आर्थिक सम्मेलन के मौके पर चीन को मनाने का प्रयास करेंगे. उन्होंने एक बयान में कहा है, "मेरे विचार में यहे बैठकें इस समय अमेरिकी हितों को बढ़ावा देने का सर्वोत्तम अवसर हैं."

अमेरिकी व्यापार और उद्योग परिषद का कहना है कि प्रशासन चीन की मुद्रा पर रिपोर्ट को जून में कनाडा में होने वाले जी-20 सम्मेलन के बाद तक टाल देगी. गाइथनर के इस फ़ैसले पर अमेरिकी सांसदों की आरंभिक प्रतिक्रिया नकारात्मक रही है.

सीनेट की वित्तीय समिति के सदस्य रिपब्लिकन सीनेटर चार्ल्स ग्रेली ने कहा है कि सरकार का क़दम अमेरिकी प्रभाव को कम करता है क्योंकि युआन को डॉलर के साथ जोड़ने का चीन का क़दम हेराफेरी वाला है. उन्होंने कहा, "यदि हम चाहते हैं कि चीन हमें गंभीरता से ले, तो हमें यह सार्वजनिक रूप से कहने के लिए तैयार रहना होगा."

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री