1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिकी ड्रोन हमले का निशाना बना तालिबान नेता मुल्ला मंसूर

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने तालिबान के नेता मुल्ला अख्तर मंसूर के ड्रोन हमले में मारे जाने की पुष्टि कर दी है. तालिबान ने इस खबर पर टिप्पणी नहीं की है, लेकिन उत्तराधिकारी के चुनाव के लिए शूरा की बैठक हो रही है.

"अफगानिस्तान में शांति और संपन्नता लाने के लंबे समय से जारी हमारे प्रयासों की दिशा में आज का दिन एक मील का पत्थर है," इन शब्दों के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने तालिबान के नेता मुल्ला मंसूर के मारे जाने की पुष्टि की.

ओबामा ने कहा, "तालिबान नेता अख्तर मोहम्मद मंसूर की मौत के साथ ही हमने उस संगठन के नेता को मिटा दिया है, जिसने लगातार अमेरिका और उसके सहयोगियों के खिलाफ साजिशें रचीं और हमले किए. जिसने अफगान लोगों के खिलाफ युद्ध छेड़ा और खुद अल-कायदा जैसे अतिवादी संगठनों का साथ दिया." ओबामा ने तालिबान से अपील की है कि वे शांति वार्ता में हिस्सा लें क्योंकि "लंबी शांति और स्थायित्व की ओर ले जाने वाला" केवल यही एक रास्ता है.

नाटो के महासचिव येंस स्टोल्टेनबर्ग ने कहा कि मंसूर की मौत से अफगानिस्तान में शांति प्रयासों को एक और मौका मिला है. अपने बयान में नाटो प्रमुख ने कहा कि मंसूर की हरकतों के कारण "अनगिनत अफगानी नागरिकों और सुरक्षा बलों की जान चली गई."

इस शनिवार अमेरिका ने अफगानिस्तान-पाकिस्तान सीमा के पास बलूचिस्तान क्षेत्र में किए एक ड्रोन हमले में उस कार को निशाना बनाया, जिसमें मंसूर था. इस मौत की पुष्टि अफगान और अमेरिकी दोनों पक्ष कर चुके हैं. तालिबान ने मंसूर के मारे जाने की खबर से इंकार किया लेकिन इस बारे में कोई बयान नहीं दिया है. दूसरी ओर चीनी समाचार एजेंसियां इस पर शक जता रही हैं.

अफगानिस्तान के गृह मंत्रालय ने बताया है कि मंसूर की मौत "तालिबान के लिए एक बड़ा झटका" है और इससे देश के सुरक्षा हालात सुधरेंगे. मुल्ला मंसूर ने बीते अगस्त तालिबान के संस्थापक मुल्ला मोहम्मद ओमर के मरने की खबर आने के बाद तालिबान कंमाडर की जिम्मेदारी संभाली थी. इसी तर्ज पर एक बार फिर इस पर भी चर्चा छिड़ी है कि मुल्ला मंसूर के बाद इनका नया मुखिया कौन होगा.

संबंधित सामग्री