1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

अमेरिकी ट्रैक पर चमके हैमिल्टन

अमेरिका में फॉर्मूला वन की वापसी से सबसे ज्यादा खुश हुए लूविस हैमिल्टन जिन्होंने रेस वहीं से शुरू की जहां यह पांच साल पहले खत्म हुई थी. हैमिल्टन तब भी जीते थे और अब भी जीते हैं. साल के चैम्पियन का फैसला अब ब्राजील में.

चमचमाते सूरज की किरणों के बीच सर्किट में मौजूद 120,000 दर्शकों को पूरे पांच साल बाद अपनी जमीन पर फॉर्मूला वन की रेस का नजारा मिला. दुनिया के सबसे पुरानी ट्रैक में से एक इंडियानापोलिस मोटर स्पीडवे पर जब मौजूदा चैम्पियन सेबास्टियान फेटल को पछाड़ हैमिल्टन ने यूएस ग्रां प्री अपने नाम की तो उनकी खुशी छिपाए नहीं छिप रही थी. शैम्पेन छिड़कते हैमिल्टन का रोम रोम खिला हुआ था.

हैमिल्टन ने कहा करियर की 18वीं और साल की चौथी जीत के बाद कहा, "यह बदमाश था, मुझे बड़ा मजा आया, मैं बहुत खुश हूं, जब मैंने लाइन पार की तब मेरी आवाज गुम हो गई थी. दरअसल उस पूरे लैप में मैं पूरे वक्त चीखता रहा था. यह यहां पहला ग्रां प्री था, इससे पहले आखिरी बार 2007 में हुआ था. तब भी मैं जीता था. मैं यहां इतने दिनों के बाद आया और इतने लोगों के सामने जीता यह सप्ताहांत बेहद खास है."

मैक्लैरेन की टीम छोड़ इसी सत्र के बाद मर्सिडिज से जुड़ने जा रहे अपनी मौजूदा टीम को शानदार तोहफा दिया है. टीम के मुखिया मार्टिन व्हिटमार्श ने पहले कहा था कि हैमिल्टन को अपने इस फैसले पर एक दिन अफसोस होगा कि उन्होंने उस फॉर्मूला वन टीम को छोड़ दिया जिसे वह हमेशा से जानते आए हैं. विटमार्श ने यह भी कहा कि जब तक ब्राजील की रेस नहीं हो जाता तब तक टीम भावुक नहीं होगी. ब्राजील की रेस साल की आखिरी रेस है. व्हिटमार्श ने कहा, "इस साल छह रेस जीती हैं और हम सातवीं भी जीतना चाहेगे."

इस बीच रेडबुल के लिए भी खुशी मनाने का मौका अमेरिकी ट्रैक से आया है. सेबास्टियन फेटल के लिए लगातार तीसरी बार चैम्पियन बनने का सपना भले ही अभी पूरा न हुआ हो लेकिन रेडबुल के लिए लागातर तीसरी बार सर्वश्रेष्ठ टीम बनने का सपना पूरा हो गया है. लगातार तीसरे साल टॉप पर रह कर रेडबुल 62 साल के फॉर्मूला वन इतिहास में चौथी ऐसी टीम बन गई है जिसने यह करिश्मा कर दिखाया है. फेरारी, मैक्लैरेन और विलियम्स के बाद अब रेडबुल का ही नाम है.

टीम के सिरमौर जर्मन ड्राइवर सेबास्टियान फेटल अमेरिकी ट्रैक पर दूसरे नंबर पर रहे हालांकि वो पोल पोजिशन पर थे और रेस में काफी देर तक बादशाहत बनाए रखी थी. दूसरे नंबर पर रह कर उन्होंने चैम्पियनशिप की दौड़ में अपने प्रतिद्वंद्वी फेरारी के फर्नांडो अलोंसो से 13 अंकों की बढ़त बनाए रखी है. अगर सेबास्टियन जीत जाते और अलोंसो शीर्ष चार में नहीं होते तो साल के चैम्पियन का फैसला भी अमेरिकी ट्रैक पर ही हो जाता. इस रेस में तीसरे नंबर पर रह कर अलोंसो ने यह तय कर दिया कि जीत का फैसला ब्राजील की ट्रैक पर ही होगा. अमेरिकी ग्रां प्री की एक खास बात यह भी रही कि शीर्ष के तीनों ड्राइवर फेटल, अलोंसो और हैमिल्टन पोडियम पर नजर आए.

एनआर/एमजी (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

WWW-Links