1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिकी की रिहाई के लिए गूगल हेल्प

अमेरिकी नागरिक पर नरमी बरतने की अपील के साथ गूगल के चैयरमैन एरिक श्मिट उत्तर कोरिया पहुंचे हैं. इसे निजी मानवीय अभियान कहा जा रहा है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय इससे खुश नहीं है.

default

उत्तर कोरिया पहुंचे एरिक श्मिट

गूगल प्रमुख एरिक श्मिट के साथ न्यू मेक्सिको प्रांत के पूर्व गवर्नर बिल रिचर्डसन और गूगल आईडियाज के जैरेड कोहेन भी हैं. कोहेन अमेरिकी विदेश मंत्रालय के सलाहकार रह चुके हैं. इनका कहना है कि वे उत्तर कोरिया में गिरफ्तार अमेरिकी नागरिक की रिहाई की कोशिश करेंगे.

हालांकि अमेरिकी सरकार इस पहल से खुश नहीं है. वॉशिंगटन का कहना है कि उत्तर कोरिया ने हाल ही में लंबी दूरी के रॉकेट का परीक्षण किया है, ऐसे में अमेरिकी अधिकारियों की प्योंगयांग यात्रा 'मददगार' साबित नहीं होगी. दौरे को गलत समय पर उठाया गया कदम बताया जा रहा है.

बहरहाल सोमवार को प्योंगयांग पहुंचने से पहले गूगल प्रमुख और उनके साथी चीन में थे. बीजिंग से उन्होंने प्योंग्यांग के लिए उड़ान भरी. बीजिंग में रिचर्डसन ने कहा, "यह एक निजी मानवीय अभियान है जो अमेरिकी सरकार से नहीं जुड़ा है. हम प्योंग्यांग जा रहे हैं, शायद ढाई दिन के लिए. हम शहर के बाहर भी जा सकते हैं. इन बातों पर तब विचार किया जाएगा जब हम वहां पहुंचेंगे."

Videostill Nordkorea Raketenstart Unha-3

रॉकेट टेस्ट से नाराज हैं पश्चिमी देश

उत्तर कोरिया की गिरफ्त में कोरियाई मूल के अमेरिकी नागरिक केनेथ बाए हैं. केनेथ टूरिस्ट वीजा पर उत्तर कोरिया गए थे. कोरियाई अधिकारियों के मुताबिक यात्रा के दौरान उन्होंने देश के खिलाफ अपराध किया, जिसे वह स्वीकार भी कर रहे हैं.

रिचर्डसन के मुताबिक पिछले हफ्ते केनेथ के बेटे ने उनसे संपर्क किया और मदद मांगी. रिचर्डसन बीते दो दशक में कई बार उत्तर कोरिया जा चुके हैं. वह पहले भी अमेरिकी नागरिकों की रिहाई के लिए मध्यस्थता कर चुके हैं. इस बार रिहाई की अपील गूगल प्रमुख करेंगे. कहा जा रहा है कि श्मिट की निजी अपील का संबंध न तो गूगल से है और न ही अमेरिकी सरकार से.

उत्तर कोरिया पहले भी अमेरिकी नागरिकों को गिरफ्तार कर चुका है. 2009 में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन प्योंग्यांग पहुंचे. क्लिंटन दो अमेरिकी महिला पत्रकारों को छुडा़ कर लाए. तब भी यही कहा गया कि क्लिंटन निजी मानवीय अभियान पर गए हैं. माना जा रहा है कि इस बार ऐसी ही कोशिश गूगल प्रमुख एरिक श्मिट कर रहे हैं.

फिलहाल यह तय नहीं है कि श्मिट और रिचर्डसन की मुलाकात उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन से होगी या नहीं. अमेरिकी चैनल सीएनएन से बात करते हुए रिचर्डसन ने इतना ही कहा कि उन्हें सकारात्मक उम्मीदें हैं. उन्होंने अमेरिकी विदेश मंत्रालय को 'निराश न होने' की सलाह भी दी है.

ओएसजे/एनआर (एपी, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री