1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

अमेरिका में 38 करोड़ अंडे बाजार से वापस

अमेरिका में अंडों का उत्पादन करने वाली एक कंपनी बाजार से 38 करोड़ अंडे वापस मंगा रही है. इन अंडों के सैलमोनेला बैक्टीरिया से प्रभावित होने का संदेह है. हाल के दिनों में अंडों को वापस मंगाने की यह सबसे बड़ी घटना है.

default

इन अंडों का उत्पादन आयोवा के गाल्ट में राइट काउंटी एग कंपनी ने किया है. इन्हें 143 अलग अलग ब्रांड नामों से पूरे देश में बेचा जा रहा है. सैलमोनेला के सैकड़ों मामले सामने आने के बाद 13 अगस्त को कंपनी ने खुद ही 22 करोड़ अंडों को वापस मंगाया था. इस बारे में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने बुधवार को सूचना दी. गुरुवार को कंपनी ने वापस मंगाए जाने वाले अंडों की तादाद बढ़ाकर 38 करोड़ कर दी. यह अमेरिका के कुल अंडा उत्पादन का एक फीसदी है.

एफडीए में पब्लिक हेल्थ एंड बायोस्टैस्टिक्स डायरेक्टर शेरी मैकगैरी के मुताबिक यह अंडों की वापसी की हाल की सबसे बड़ी घटना है. एफडीए के विशेषज्ञों ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि मई और जून महीनों में सैलमोनेला के 1953 मामले सामने आए. विशेषज्ञ इस बात की जांच कर रहे हैं कि बैक्टीरिया का हमला कहां से शुरू हुआ.

इस मामले को राइट काउंटी एग कंपनी से जोड़े बगैर प्रशासन ने कहा कि इस अवधि में सैलमोनेला के मामले सामान्य से दोगुने हो गए हैं. एफडीए के मुताबिक कंपनी के चिकन फार्म्स में संक्रमित चूहों की वजह से सैलमोनेला फैला होगा. कंपनी ने कहा है कि सैलमोनेला बैक्टीरिया को मारने के लिए वह अपने सारे स्टॉक का पास्चरीकरण करेगी.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक संक्रमित जानवरों का मल खाने से सैलमोनेला बैक्टीरिया फैलता है. यह जानवरों की आंतों में पलता है. सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के एक अनुमान के अनुसार अमेरिका में संक्रमित खाना खाने से हर साल चार लाख लोग सैलमोनेला बैक्टीरिया से प्रभावित होते हैं. लेकिन द एग सेफ्टी सेंटर नाम की संस्था कहती है कि अंडों के सैलमोनेला से प्रभावित होने के आसार हर 20 हजार में से एक अंडे के लिए होते हैं. इसका मतलब है कि आंकड़ों के हिसाब से अमेरिका में अंडे खा रहा एक व्यक्ति 84 साल में एक ही बार संक्रमित अंडे के संपर्क में आ सकता है.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा

DW.COM