1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

अमेरिका में नई गर्भनिरोधक गोली को मंजूरी

अमेरिकी सरकार ने फ्रांस में बनी नई गर्भनिरोधक गोली को अपने देश में बेचने की इजाजत दे दी है. नई गोली असुरक्षित यौन संबंध के 5 दिन बाद लेकर भी अनचाहे गर्भ को रोका जा सकता है. गर्भपात का विरोध करने वालों की भौहें तनीं.

default

खाद्य और दवा विभाग एफडीए ने यूलिप्रिस्टल एसिटेट नाम के उस दवा को मंजूरी दी जो इला नाम से अमेरिका में बेचने के लिए लाई गई है. इला का इस्तेमाल साधारण गर्भनिरोधकों की तुलना में करीब दो गुना ज्यादा समय की आज़ादी देता है. एफडीए का कहना है कि अब तक की जांच में दवा को इंसान के लिए सुरक्षित पाया गया है.

यह दवा यूरोप में एक साल पहले ही आ गई थी लेकिन इसका विरोध करने वाले अभी भी चुप नहीं हुए हैं. अमेरिका में गर्भपात का विरोध करने वाले लोगों का मानना है कि इस गोली को गर्भनिरोधक के बजाय गर्भपात की दवा कहना ज्यादा मुनासिब होगा. उनका कहना है कि इसे गर्भनिरोधक के रूप में बेचना गलत है क्योंकि यह गर्भपात की दवा आरयू-486 के जैसी ही है. समाजसेवी संगठन 'अमेरिकंस यूनाइटेड फॉर लाइफ' के प्रमुख डॉ. चारमाइन योइस्ट का कहना है, " एफडीए ने इस दवा के इस्तेमाल को मंजूरी देकर गैरजिम्मेदाराना रवैया अपनाया है और इसकी वजह से औरतों की सेहत और ज़िंदगी को काफी नुकसान होगा. साथ ही एक गर्भपात की दवा को गर्भनिरोधक के रूप में बेचकर लोगों को गुमराह किया जा रहा है."

हालांकि इस दवा का स्वागत करने वालों की भी कमी नहीं है. 'प्लान्ड पैरेन्टहुड फेडरेशन ऑफ अमेरिका' की अध्यक्ष सेसिल रिचर्ड्स का कहना है कि हर महिला को यह हक है कि उसके पास अनचाहे गर्भ से बचने का हर संभव उपाय हो. उन्होंने कहा, "महिलाओं के पास इस बात के बहुत वाजिब कारण हैं कि वे अनचाहे गर्भ से क्यों बचना चाहती हैं, गर्भ किसी यौन दुर्व्यवहार का भी नतीजा हो सकता है." सेसिल का कहना है कि एफडीए की इस दवा को मंजूरी से महिलाओं के पास अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए कुछ और विकल्प होंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links