1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिका पर निर्भरता कम करे यूरोप: पुतिन

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूरोपीय संघ को अमेरिका से स्वतंत्र होने को कहा है. उन्होंने शस्त्र होड़ और शरणार्थियों की लहर के लिए अमेरिकी नीतियों को जिम्मेदार ठहराया.

पुतिन ने ये बातें स्विट्जरलैंड के सरकारी चैनल एसआरएफ को दिए इंटरव्यू में कही. जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि यूरोप में फिर से युद्ध की स्थिति पैदा हो सकती है, तो इस पर उन्होंने कहा, "मैं उम्मीद करता हूं कि ऐसा नहीं होगा. लेकिन हम एक ऐसे यूरोप की चाहत रखते हैं जो अपनी स्वाधीनता और आधिपत्य को मजबूत तरीके से पेश करे." उन्होंने कहा कि यूरोपीय संघ का बात बात पर अमेरिका के साथ परामर्श करना उनके लिए परेशानी भरा है, "अगर हमें अपने यूरोपीय साझेदारों के साथ अंदरूनी मामलों पर बातचीत करने के लिए वॉशिंगटन का रुख करना पड़े, तो यह थोड़ा अजीब तो लगता है." पुतिन ने कहा कि बेहतर साझेदारी के लिए जरूरी है कि यूरोप अमेरिका पर अपनी निर्भरता को कम करे.

यूरोप में बड़ी संख्या में शरणार्थियों के आने के लिए भी पुतिन ने अमेरिका को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा, "यूरोप भारी संख्या में शरणार्थियों से जूझ रहा है. लेकिन इसका फैसला भी समुद्र पार से लिया गया था." पुतिन ने कहा कि वे अमेरिका की दखलंदाजी की बात कर रहे हैं लेकिन वे किसी भी तरह से अमेरिका को शैतान के रूप में पेश नहीं करना चाहते.

एंटी बैलिस्टिक मिसाइल संधि (एबीएम) के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि अमेरिका ने इसका एकतरफा इस्तेमाल किया, "अमेरिका ने जब अपनी मिसाइल बनानी शुरू की, तभी हमने साफ कर दिया था कि इसके जवाब में हमें जरूरी कदम उठाने ही पड़ेंगे. इसके तहत हमारा इरादा कूटनीतिक संतुलन बनाने का था. रूस के नए शस्त्रीकरण प्रोग्राम की आलोचना को पुतिन ने गलत बताया और कहा कि जो लोग रूस की ओर से खतरे की बात कर रहे हैं वे स्थिति को ठीक तरह से समझ ही नहीं पाए हैं."

पुतिन ने यूक्रेन संकट जैसे मामलों पर बातचीत करने पर भी सहमति जताई. ईरान के परमाणु समझौते को उन्होंने एक अच्छा उदाहरण बताते हुए कहा कि बातचीत के जरिए समस्याओं के समाधान निकल सकते हैं.

आईबी/एमजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री