1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिका को यूरोप की चेतावनी

अमेरिकी जासूसी कांड पर विवाद और बढ़ता जा रहा है, ब्रिटिश अखबार गार्डियन की खबर के मुताबिक दुनिया के 35 शीर्ष नेताओं की बातचीत रिकॉर्ड की गई है. उधर ब्रसेल्स में यूरोपीय नेताओं का सम्मेलन इसी विवाद की भेंट चढ़ गया है.

ओबामा प्रशासन को जल्दी ही कुछ और सरकारों की नाराजगी का सामना करना पड़ सकता है. ब्रिटिश अखबार गार्डियन ने कहा है कि उसे एक गोपनीय मेमो हासिल हुआ है जिससे पता चला है कि अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) ने दुनिया के 35 शीर्ष नेताओं की बातचीत 2006 में रिकॉर्ड की. इस मेमो से साफ जाहिर है कि एनएसए ने अमेरिकी राष्ट्रपति के दफ्तर, रक्षा विभाग और दूसरे एजेंसियों के बड़े अधिकारियों को इस बात के लिए बढ़ावा दिया कि वो अपने संपर्कों का ब्यौरा एनएसए को दे दें जिससे कि विदेशी नेताओं के फोन को खुफिया एजेंसी अपने निगरानी कार्यक्रम में शामिल कर सके. गार्डियन ने यह साफ नहीं किया है कि किन लोगों की बातचीत सुनी गई.

उधर ब्रसेल्स में यूरोपीय नेताओं का सम्मेलन में जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने कह दिया कि ओबामा प्रशासन पर से विश्वास हिल गया है और अटलांटिक पार के देशों से रिश्ते पर इसकी आंच पड़ी है. एनएसए ने फ्रांस में सात करोड़ से ज्यादा टेलीफोन टैप किए. जर्मन चांसलर का मोबाइल भी टैप किए जाने की खबरों से फ्रांस और जर्मनी की सरकारों का गुस्सा भड़क उठा है. गुरुवार को दोनों देशों के नेताओँ ने ब्रसेल्स में अपनी नाराजगी जाहिर की.

मैर्केल ने गुरुवार को जिस अंदाज में अपनी बात रखी उससे साफ है कि एक दिन पहले राष्ट्रपति ओबामा से हुई चर्चा से उनकी नाराजगी दूर नहीं हुई है. हालांकि ओबामा ने निजी तौर पर उन्हें यह भरोसा दिलाने की कोशिश की कि अमेरिकी उनकी मोबाइल फोन पर बातचीत नहीं सुन रहा है. मैर्केल ने संवाददाताओं से ब्रसेल्स में कहा, "हमें सहयोगियों और साझीदारों के बीच भरोसे की जरूरत है. यह भरोसा अब नए सिरे से बनाना होगा. अब हमें इसके बारे में सोचना होगा." जर्मन चांसलर का यह भी कहना है, "अमेरिका और यूरोप एक जैसी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं, हम सहयोगी हैं. लेकिन इस तरह का सहयोग केवल भरोसे से बन सकता है, इसलिए मैं फिर दोहराती हूं, दोस्तों के बीच जासूसी नहीं हो सकती."

दूसरे यूरोपीय नेताओं ने भी मैर्केल की नाराजगी में अपना सुर मिलाया. स्वीडेन के प्रधानमंत्री फ्रेडरिक राइनफेल्ट ने सहयोगी देश के नेता की बात छिप कर सुनने को, "पूरी तरह अस्वीकार्य" बताया. नीदरलैड्स, ऑस्ट्रिया और इटली के प्रधानमंत्री की भी यही राय थी. फ्रांस तो अपनी नाराजगी पहले ही जता चुका है उसने यूरोपीय संघ के नेताओं की बातचीत के एजेंडे में इस मसले को भी शामिल करने की मांग की है. मैर्केल ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद ने इस मसले पर अकेले में भी बातचीत की है. ओलांद ने कहा है कि, "अमेरिका के साथ हमारे रिश्ते को बचाना अभी दांव पर लगा है. जो कुछ हुआ है उससे उन्हें बदलना नहीं चाहिए लेकिन भरोसे को कायम करना होगा उसे मजबूत करना होगा."

सम्मेलन के बाद यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष हर्मन फॉन रोमपॉय ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि फ्रांस और जर्मनी अमेरिका से इस बारे में द्वीपक्षीय बातचीत करना चाहते हैं ताकि इस साल के आखिर तक इलेक्ट्रॉनिक जासूसी के विवाद को खत्म किया जा सके.

यूरोपीय नेताओं के बयानों और कार्रवाइयों से साफ जाहिर है कि वो अमेरिका से मिले जवाब से संतुष्ट नहीं हैं. बुधवार को व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कार्ने ने कहा कि ओबामा ने निजी तौर पर मैर्केल को भरोसा दिया है कि उनका फोन नहीं सुना गया और न ही भविष्य में सुना जाएगा. जब कार्ने से यह पूछा गया कि क्या पहले मैर्केल की बातचीत सुनी गई है तो उन्होंने इनकार नहीं किया. उनका कहना था, "हम सार्वजनिक रूप से हर कथित खुफिया गतिविधि पर प्रतिक्रिया नहीं दे सकते." ओबामा प्रशासन सार्वजनिक रूप से चुप्पी साधे हुए है, कार्ने ने बस इतना कहा कि ओबामा प्रशासन "कूटनीतिक चैनलों के जरिए शीर्ष स्तर पर बातचीत के रास्ते जर्मनी की चिंता दूर करने की कोशिश में है."

एनआर/ओएसजे (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री