1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिका के लिए फिर उड़ेगा ए-380

ऑस्ट्रेलिया की क्वाटंस एयरलाइंस ने दुनिया के सबसे बड़े यात्री विमान एयरबस ए-380 की सेवाएं फिर से बहाल करने का फैसला किया है. पिछले साल उड़ान के दौरान ए-380 के इंजन में खराबी आने के बाद अब विशालकाय विमान फिर उड़ान भरेंगे.

default

इस हफ्ते से क्वांटस के ए-380 अमेरिका के लिए नियमित उड़ान भरने लगेंगे. दो महीने तक तकनीकी जांच और बनावट संबंधी जांचों से गुजरने के बाद क्वांटस ने इन विमानों को उड़ान भरने के लिए हरी झंडी दी है. रविवार को यह विमान मेलबर्न से लॉस एजेंलिस के लिए उड़ान भरेंगे. हालांकि कंपनी ने अभी लंदन के लिए ए-380 उड़ाने से इनकार किया है. एयरलाइंस का कहना है कि पूरी तरह आश्वस्त होने के बाद ही ए-380 के लिए ऑस्ट्रेलिया लंदन रूट खोला जाएगा.

नवंबर में सिंगापुर से ऑस्ट्रेलिया के बीच उड़ान भरते समय क्वांटस के एक ए-380 विमान में तकनीकी खराबी आ गई थी. विमान जब इंडोनेशिया के ऊपर अपनी पूरी ऊंचाई पर था तभी एक धमाका हुआ और एक इंजन के बाहर की चादर उखड़ गई. चादर विमान के एक पंख से टकराई और उसमें भी सुराख कर गई. इसके बाद विमान को आनन फानन में इमरजेंसी लैंडिंग के तहत उतारा गया. जांचकर्ताओं को बाद में यह चादर इंडोनेशिया में मिली.

Singapur Notlandung Australien Fluggesellschaft Flugzeug NO FLASH

इस घटना के बाद क्वांटस ने अपने सभी ए-380 विमानों की जांच की. क्वांटस ने दावा किया कि दुनिया के सबसे बड़े विमान में इंजन के पास बनावट में तकनीकी खराबी है. क्वांटस के एलान के बाद सिंगापुर एयरलाइंस ने भी अपने ए-380 विमानों को जमीन पर उतार दिया. लेकिन अब दो महीने की जांच के बाद क्वांटस ने बयान जारी कर कहा है, ''फ्लाइट की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है. बीते महीनों में ए-380 की पूरी तरह जांच कर ली गई है और इसे फिर सेवा में लाया जा रहा है.''

ए-380 में प्रतिष्ठित कंपनी रोल्स रॉयस के इंजन लगे हुए हैं. रोल्स रॉयस का कहना है कि उसके इंजनों में कोई खराबी नहीं हैं. क्वांटस के इन फैसलों से एयरबस को खासा धक्का लगा है. दुनिया की कई और एयरलाइन कंपनियां ए-380 विमान खरीदना चाह रही थीं, क्वांटस ने उनके मन में संदेह भर दिया है. हालांकि एयरबस ए-380 को पूरी तरह सुरक्षित विमान बताया है. कंपनी का कहना है कि एयरलाइन कंपनियों को मरम्मत के दौरान एयरबस से संपर्क करना चाहिए ताकि सब कुछ सही ढंग से हो.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह़

संपादन: एन रंजन

WWW-Links