1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिका के जवाब में रूसी प्रस्ताव

यूक्रेन संकट का हल करने के लिए रूस भी प्रस्ताव तैयार करेगा. मॉस्को ने अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी को मॉस्को आकर बातचीत का न्योता दिया है. क्रीमिया के जनमत संग्रह को लेकर रूस और पश्चिमी देश भिड़ते दिख रहे हैं.

यूक्रेन संकट के समाधान के लिए प्रस्तावित अमेरिकी मसौदों के जवाब में रूसी विदेश मंत्री सेर्गेई लावरोव ने कहा कि उन्होंने भी शांति के लिए प्रस्ताव तैयार किए हैं. लावरोव ने कहा, "हमने रूसी सुरक्षा समिति के साथ अपने जवाबी प्रस्ताव तैयार किये हैं. इसका मकसद अंतरराष्ट्रीय नियमों के तहत और बिना शर्त यूक्रेन के सभी लोगों के हित में हालात को सुलझाना है."

यूक्रेन के क्रीमिया प्रायद्वीप में बड़ी संख्या में रूसी मूल के लोग रहते हैं. राजधानी कीव में विक्टर यानुकोविच को राष्ट्रपति पद से बर्खास्त किए जाने के बाद क्रीमिया में रूस के समर्थन में प्रदर्शन शुरू हुए. रूसी बहुल आबादी क्रीमिया को रूस में मिलाना चाहती है. इसके लिए 16 मार्च को जनमत संग्रह होना है.

क्रीमिया प्रशासन ने ओएससीई के पर्यवेक्षकों को 16 मार्च को जनमत संग्रह देखने का न्योता दिया है. जनमत संग्रह के इस प्रस्ताव से यूक्रेन और पश्चिमी देश नाराज हैं. जर्मन चासंलर अंगेला मैर्केल तो इसे "गैरकानूनी" करार दे चुकी हैं.

Bildergalerie Krim Referendum 10.03.2014 Simferopol

क्रीमिया में यूक्रेन समर्थक

Ukraine pro-russische Demonstration in Simferopol 9.3.2014

क्रीमिया में रूस समर्थक

16 मार्च की तारीख वक्त के साथ दोनों पक्षों पर दबाव बनाने का काम कर रही है. रूस ने अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी को बातचीत के लिए मॉस्को आने का न्योता दिया है. लावरोव ने कहा, "हमारा सुझाव है कि वो यहां आज ही आएं, हम उनके स्वागत के लिए तैयार हैं. उन्होंने पहले सहमति दी फिर बाद में उन्होंने रविवार को मुझे फोन कर कहा कि वो अभी कुछ दिनों के लिए इसे टालना चाहते हैं."

मॉस्को को शुक्रवार को अमेरिकी प्रस्ताव मिला. रूसी विदेश मंत्री के मुताबिक, "उसका आधार कुछ ऐसा है जिससे हम सहमत नहीं, क्योंकि उसमें ऐसे आरोप लगाए गए हैं कि ये रूस और यूक्रेन का झगड़ा हो."

रूस के इन बयानों के बाद वॉशिंगटन में भी हलचल तेज हो गई है. अमेरिकी उप राष्ट्रपति जो बाइडेन अपना दक्षिण अमेरिकी दौरा बीच में ही छोड़कर वॉशिंगटन लौट रहे हैं. कार्यक्रम के मुताबिक मंगलवार को उन्हें डोमिनिकन रिपब्लिक के राष्ट्रपति से मिलना था. लेकिन इस बीच यूक्रेन के अंतरिम प्रधानमंत्री से मिलने के लिए बाइडेन वापस वॉशिंगटन आ रहे हैं. बुधवार को यूक्रेन के पीएम आर्सेनी यात्सेन्युक की व्हाइट हाउस में बराक ओबामा से मुलाकात होनी है.

इस बीच रूस ने यूक्रेन में नई गठबंधन सरकार पर कानून व्यवस्था पर ध्यान न देने का आरोप भी लगाया है. पूर्वी यूक्रेन में सामने आ रही दक्षिणपंथी हिंसा के मामलों की लावरोव ने निंदा की. पश्चिमी देशों का आरोप है कि रूस क्रीमिया पर अपने कब्जे को जायज साबित करने के लिए राष्ट्रवाद या दक्षिणपंथी हिंसा जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर रहा है.

ओएसजे/एमजे (एएफपी, एपी)

संबंधित सामग्री