1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिका की 'प्रथम बेटी' बनेगी व्हाइट हाउस कर्मचारी

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप आधिकारिक रूप से व्हाइट हाउस में काम करेंगी. इवांका पहले राष्ट्रपति की अनौपचारिक सलाहकार बनने वाली थीं, जिसे लेकर कई नैतिक प्रश्न उठाए गए थे.

अमेरिका की 'फर्स्ट डॉटर' इवांका ट्रंप ने बयान जारी कर बताया है कि वे औपचारिक रूप से व्हाइट हाउस कार्यालय में काम करेंगी. पहले उनकी योजना राष्ट्रपति की अनौपचारिक सलाहकार बनने की थी.

इवांका ने बताया, "मैंने सुना कि सभी नैतिक नियमों का पालन करते हुए भी निजी तौर पर मेरे राष्ट्रपति को सलाह दिये जाने को लेकर कई लोगों को चिंता थी. इसलिए अब मैं व्हाइट हाउस कार्यालय में बिना वेतन लिए एक कर्मचारी के रूप में काम करूंगी. मुझ पर भी वही नियम लागू होंगे जो केंद्रीय सरकार के बाकी सारे कर्मचारियों पर होते हैं."

35 साल की डिजायनर और उद्यमी इवांका ट्रंप ने माना कि वे जैसी भूमिका निभाने जा रही हैं वो पहले कभी नहीं हुआ. न्यूयॉर्क टाइम्स अखबार ने बताया है कि इवांका को राष्ट्रपति की एसिस्टेंट का पद मिलेगा. इवांका के पति जेरेड कुशनर पहले से ही राष्ट्रपति के वरिष्ठ सलाहकार का काम कर रहे हैं. ना तो कुशनर और ना ही इवांका को पहले कभी भी किसी निर्वाचित पद या सार्वजनिक पद पर काम करने का कोई अनुभव है.

एक हफ्ते पहले ही खबर आयी थी कि इवांका ट्रंप व्हाइट हाउस के वेस्ट विंग के एक ऑफिस में शिफ्ट होने वाली हैं और राष्ट्रपति की अनौपचारिक सलाहकार के रूप में काम करेंगी.

डॉनल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद से वे व्हाइट हाउस में नियमित रूप में आती जाती रही हैं. यहां तक कि जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे और जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल जैसे नेताओं की आधिकारिक अमेरिकी यात्रा के दौरान हुई वार्ताओं में भी वे उपस्थित रहीं. 

आरपी/एके (डीपीए,एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री