1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

अमेजन पर मुकदमा

आपके मोबाइल या कंप्यूटर में ऐसा कुछ हो सकता है कि जो आपकी जेब में सुराख कर दे. ऑनलाइन शॉपिंग की सबसे बड़ी कंपनी अमेजन का ऐसा ही एक तरीका पकड़ में आया. अमेजन पर मुकदमा.

अमेजन पर आरोप है कि उसके मोबाइल ऐप स्टोर में ऐसे कई ऑनलाइन गेम हैं, जहां तक बच्चे आसानी से पहुंच सकते हैं और बिना अनुमति के मां बाप के अकाउंट से पैसा खर्च कर सकते है. मां बाप को इसकी भनक तब लगी जब उनके अकाउंट से पैसे कटते चले गए. अमेरिका के संघीय कारोबार आयोग के मुताबिक अमेजन ने बच्चों को उन ऑनलाइन गेम्स तक पहुंचने दिया, जहां वो अपने मां बाप के पैसे खर्च कर सकें.

कुछ गेम खेलने के लिए काल्पनिक सिक्कों की जरूरत होती है, लेकिन इन्हें खरीदने के लिए असली मुद्रा चाहिए. ये गेम जिस ऐप के जरिए खेले जाते हैं, उन्हें अमेजन ने ही बेचा. संघीय कारोबार आयोग के दस्तावेजों के मुताबिक 2011 और 2012 के दौरान अमेजन को यह पता था कि इस तरह के ऐप से किस तरह की परेशानी सामने आ सकती है. इसके बावजूद कंपनी ने कमी मिटाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया.

"पास के घर में लगी आग को बुझाएं" यह एक गेम का न्योता है, बच्चे इससे ललचाते हैं और पूरी शिद्दत से आग बुझाने में जुट जाते. जैसे जैसे वो आग से निपटते, वैसे वैसे उनके मां बाप का अकाउंट राख होता जाता. ज्यादा सिक्के खरीदने के लिए 99.99 डॉलर खर्च करने होते हैं. खरीद के लिए हां करने पर किसी तरह के पासवर्ड की जरूरत नहीं पड़ती. टिक किया और पैसा कटा.

नवबंर 2011 में कई अभिभावकों ने अपने खाते से बिना जानकारी के हजारों डॉलर कटने की शिकायत की. जांच में पता चला कि यह पैसा गेम्स ऐप के सहारे अमेजन ने लाखों डॉलर काट लिए. मुकदमे में संघीय कारोबार आयोग ने कहा कि अमेजन सभी ग्राहकों को उनका पूरा पैसा लौटाए. जुर्माने की भी बात की गई है, हालांकि रकम का जिक्र नहीं किया गया है. कंपनी से इस तरह कमाया गया किसी भी तरह का मुनाफा लौटाने को भी कहा गया है.

इसी तरह के आरोप एप्पल पर भी लगे. जनवरी में एप्पल ने अभिभावकों को 3.25 करोड़ डॉलर लौटाने का वादा किया. असल में इन दिनों ऐप स्टोर में ऐसे कई गेम है, जिनमें इन-ऐप चार्ज होता है. आम तौर ऐसे ऐप इस्तेमाल करने से पहले एक नोटिफिकेशन आता है कि इसमें पैसे कट सकते हैं. बच्चे समेत कई लोग आम तौर पर इसे "यस" कर देते हैं और पैसे कटने लगते हैं.

ओएसजे/एजेए (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री