1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

अमेजन के ड्रोन तो गूगल के रोबोट

गूगल ने सात रोबोटिक्स कंपनियां खरीदी हैं. उसकी नई रणनीति शायद शॉपिंग पोर्टल अमेजन को टक्कर देने के मकसद से बनाई गई है. गूगल अपने काम में अब रोबोटों को तैनात करेगा.

इंटरनेट के दो दिग्गज अमेजन और गूगल की लड़ाई तकनीक के नए आयाम छू रही है. न्यू यॉर्क टाइम्स के मुताबिक गूगल ने सात रोबोटिक्स कंपनियां खरीदी हैं. वह इनकी मदद से अपने रोबोट बनाएगा जिन्हें गूगल के गोदामों से लेकर उत्पादन और डिलिवरी में लगाया जाएगा. रिपोर्ट के मुताबिक गूगल ने ऐंडी रूबिन को यह प्रोजेक्ट सौंपा है. एंड्रॉयड सॉफ्टवेयर के विकास में रूबिन का बड़ा हाथ है. वह एंड्रॉयड बनाने वाली टीम के प्रमुख थे.

वैसे तो गूगल अपने सर्च इंजन के लिए जाना जाता है और यह व्यापार का उसका मुख्य जरिया भी है, लेकिन पिछले कई सालों से कंपनी उच्च तकनीक वाले प्रोजेक्ट में दिलचस्पी दिखा रही है. गूगल ग्लास के बाद कंपनी ने बिना ड्राइवर के चलने वाली गाड़ी और आसमान में उड़ने वाले गुब्बारों में निवेश किया है. कंपनी की नई तकनीक प्रोजेक्ट एक्स यूनिट में विकसित होती है, लेकिन रोबोट वाले प्रॉजेक्ट के लिए ऐंडी रूबिन अलग विभाग बनाएंगे.

न्यू यॉर्क टाइम्स से बातचीत में रूबिन ने बताया कि कंपनी ने रोबोट प्रोजेक्ट के विकास के लिए 10 साल की समयसीमा तय की है. रूबिन ने कहा, "जब ऑटोमेटेड कार प्रोजेक्ट शुरू किया गया तो वह कल्पना के स्तर पर था लेकिन अब इस बारे में सोचा जा सकता है. रोबोटिक्स के बारे में मुझे लगता है कि अभी तो बस शुरूआत हुई है. हम हार्डवेयर बना रहे हैं, हम सॉफ्टवेयर बना रहे हैं. हम सिस्टम बना रहे हैं ताकि एक टीम को इस बारे में पूरी जानकारी हो."

कंपनी ने जापानी रोबोटिक्स कंपनी शाफ्ट, रेडवु़ड रोबोटिक्स, थ्रीडी तकनीक कंपनी इंडस्ट्रियल पर्सेप्शन और बॉट एंड डॉली कंपनियों को खरीद लिया है. बॉट एंड डॉली ने इस साल रिलीज हुई फिल्म ग्रैविटी में थ्रीडी तकनीक से फिल्म बनाने में मदद कराने वाले रोबोट बनाए थे. मेका रोबोटिक्स, प्रचार कंपनी ऑटोफस और पहिया डिजाइन करने वाली कंपनी होलोम्नी भी गूगल के हो गए हैं.

कुछ ही दिनों पहले शॉपिंग वेबसाइट अमेजन ने एलान किया कि वह अपनी वेबसाइट से खरीदे गए सामान की डिलिवरी के लिए छोटे ड्रोन विमान विकसित कर रहा है. यह विमान ढाई किलो तक के वजन का सामान लोगों के घर तक पहुंचा सकेंगे. अब गूगल भी इस राह पर निकल पड़ा है और इंटरनेट के दिग्गजों की लड़ाई कल्पना के दायरों को पार कर हमारे सामान्य जीवन का हिस्सा बनती दिख रही है.

एमजी/एनआर (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links