1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

अमित शाह केस से लेना देना नहीं: कांग्रेस

कांग्रेस ने कहा है कि सोहराबुद्दीन फर्जी मुठभेड़ मामले में गुजरात के पूर्व गृह राज्य मंत्री अमित शाह की गिरफ्तारी से उसका कोई लेना देना नहीं है. शाह ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस के इशारे पर उनके खिलाफ कार्रवाई हो रही है.

default

कांग्रेस ने खारिज किए शाह के आरोप

शनिवार को सीबीआई ने शाह को गिरफ्तार किया और फिर उन्हें अदालत में पेश किया गया. उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है. सीबीआई ने कहा है कि शाह से पूछताछ जारी रहेगी और जरूरत पड़ने पर वह हिरासत में लिए जा सकते हैं. मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी समझे जाने वाले शाह पर हत्या और अपहरण के आरोप हैं.

इससे पहले कई दिन की लुकाछिपी के बाद शनिवार को शाह मीडिया के सामने आए और उन्होंने खुद पर लगे आरोपों को राजनीति से प्रेरित बताया है. 46 वर्षीय शाह ने शनिवार को राज्य मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया. उनका कहना है कि वह समय की कमी की वजह से

Innenminister Amit Shah Indien

न्यायिक हिरासत में शाह

सीबीआई की तरफ से भेजे गए समन का जवाब नहीं दे सके.

शाह ने कहा, "मुझे न्यायपालिका में पूरा विश्वास है. साथ ही यह भी भरोसा है कि मेरे ऊपर लगे सभी आरोप अदालत में गलत साबित होंगे." शाह ने मांग की है कि सीबीआई के सामने होने वाली उनकी सारी पूछताछ का वीडियो बनाया जाए. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के इशारे पर उनके खिलाफ कार्रवाई हो रही है. 

सोहराबुद्दीन के बारे में शाह ने कहा कि उसके घर से 40 एके 47 राइफलें, सौ ग्रेनेड और एक लाख रुपये की कीमत के विस्फोटक मिले थे. "क्या कोई कह सकता है कि वह निर्दोष था."

शाह गुरुवार को सीबीआई के सामने हाजिर नहीं हुए बल्कि भूमिगत थे. सीबीआई ने शुक्रवार को सोहराबुद्दीन मामले में चार्जशीट दाखिल की जिसमें शाह पर हत्या, अपहरण, वसूली और सबूत मिटाने के आरोप लगाए गए हैं. कथित गैंगस्टर सोहराबुद्दीन और उसकी बीवी कौसर बी की 2005 में एक फर्जी मुठभेड़ में हत्या कर दी गई.

शाह ने कहा, "यह घटना पांच साल पुरानी है. लेकिन सीबीआई इस तरह जल्दबाजी दिखा रही है कि मुझे जवाब देने का वक्त भी नहीं दिया जा रहा है." मैं सभी आरोपों का जवाब दूंगा और उन लोगों को बेनकाब करूंगा जो मुझ पर यह आरोप लगा रहे हैं."

उधर शाह के आरोपों पर कांग्रेस ने कहा है कि उसका इस केस से कोई लेना देना नहीं है. कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनुसिंघवी ने पूछा, क्या आप समझते हैं कि सीबीआई में सब मूर्ख ही हैं जो गलत आरोप लगाकर अपना पूरा करियर दांव पर लगाएंगे. इन आरोपों को आखिर सुप्रीम कोर्ट में भी पेश किया जाएगा." वहीं केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा कि शाह के ऊपर आरोप सीबीआई ने तय किए हैं. इसलिए उन्हें कानूनी रास्ते का पालन करते हुए जो भी कहना है अदालत के सामने कहें. शाह और उनकी पार्टी बीजेपी कांग्रेस पर सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगा रहे है.

शाह ने कहा कि उनके खिलाफ हो रही कार्रवाई गुजरात में बीजेपी की सरकार को अस्थिर करने की कोशिश है. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, "इस मामले में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को घसीटने की जरूरत नहीं है." शाह ने कहा कि एक पत्र के जरिए उन्होंने गुजरात के लोगों के सामने स्पष्टीकरण दिया है.

शनिवार को राष्ट्रीय विकास परिषद की बैठक में हिस्सा लेने दिल्ली पहुंचे मोदी ने शाह को बिल्कुल निर्दोष बताते हुए कहा कि उनके खिलाफ आरोप राजनीति से प्रेरित होकर लगाए गए हैं. सीबीआई की टीम शाह और अन्य आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल होने के बाद से उन्हें कई जगहों पर ढूंढ चुकी है. इससे पहले शुक्रवार को एक अदालत ने शाह की अग्रिम जमानत की याचिका को खारिज कर दिया.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः एस गौड़