अमिताभ ठाकुर पर बलात्कार के आरोप | दुनिया | DW | 13.07.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमिताभ ठाकुर पर बलात्कार के आरोप

मुलायम सिंह पर एफआईआर दर्ज कराने वाले आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज किया गया है. ठाकुर ने इसे मुलायम सिंह का "रिटर्न गिफ्ट" बताया है.

अमिताभ ठाकुर ने इस एफआईआर को निराधार बताते हुए कहा, "यह मुलायम सिंह का रिटर्न गिफ्ट है क्योंकि मैंने उनकी धमकी को सार्वजनिक कर दिया है और पुलिस में उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है." शनिवार को अमिताभ ठाकुर के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के कुछ ही घंटे पहले उन्होंने मुलायम सिंह के खिलाफ शिकायत की थी. एक ऑडियो टेप जारी कर उन्होंने कहा था कि मुलायम सिंह ने उन्हें धमकी दी है कि अगर उन्होंने अपने तौर तरीके नहीं बदले तो उनकी जान भी जा सकती है. ठाकुर इस मामले की सीबीआई जांच की अपील कर रहे हैं. ट्विटर के जरिए उन्होंने बताया कि वे मामला गृह मंत्रालय के पास ले जा रहे हैं.

क्या है मामला?

बलात्कार के मामले में अमिताभ ठाकुर के साथ उनकी पत्नी सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर के खिलाफ भी आईपीसी की धारा 376, 504 और 506 के तहत एफआईआर दर्ज की गयी है. शनिवार शाम उत्तर प्रदेश के गोमती नगर थाने में पुलिस ने एफआईआर दर्ज की, जो कि गाजियाबाद की एक महिला की शिकायत पर आधारित है. महिला का आरोप है कि नवंबर 2014 में नूतन ठाकुर गाजियाबाद में उनसे मिलने आईं और उन्हें नौकरी का वायदा किया. इसके लिए नूतन ठाकुर ने उन्हें लखनऊ आने के लिए कहा. 31 दिसंबर को महिला अमिताभ और नूतन ठाकुर के घर पहुंचीं और नूतन ठाकुर ने "इंटरव्यू" के लिए महिला को अपने पति के कमरे में भेजा, जहां उनके साथ कथित रूप से बलात्कार हुआ.

ऑडियो टेप की होगी जांच

मुलायम सिंह ने अब तक इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है लेकिन समाजवादी पार्टी ने आरोपों को गलत बताया है. ठाकुर का कहना है, "शाम को करीब 4.45 बजे मुझे मुलायम सिंह के निवास से फोन आया और उन्होंने मुझसे बात की. उन्होंने मुझसे कहा कि जसराना और फिरोजाबाद में जो कुछ भी हुआ, वहां 2006 में उनके एक रिश्तेदार और एमएलए ने मुझ पर हमला किया था, अगर मैंने अपना काम करने का तरीका नहीं बदला, तो और भी बुरे परिणाम हो सकते हैं."

लखनऊ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश पांडेय ने कहा है कि ऑडियो टेप की सत्यता की जांच की जाएगी. थाने में पुलिस के रवैये से नाराज अमिताभ ठाकुर और उनकी पत्नी ने ट्विटर और फेसबुक पर लिखा कि पुलिस उनकी शिकायत दर्ज करने को ही तैयार नहीं थी.

बलात्कार का मामला करीब एक महीने से चर्चा में है. मुलायम सिंह की कथित धमकी से पहले नूतन ठाकुर ने कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति और प्रांतीय महिला आयोग की प्रमुख जरीना उस्मानी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई और उनपर खुद को और पति को झूठे केस में फंसाने का आरोप लगाया.

अमिताभ ठाकुर का कहना है कि 17 जनवरी को उनकी पत्नी को एक अखबार के दफ्तर से प्रांतीय महिला आयोग को की गई बलात्कार की शिकायत पर अपना पक्ष बताने के लिए टेलिफोन आया. उन्होंने इस शिकायत और एफआईआर पर सवाल उठाने वाले कई दस्तावेज पेश किए हैं.

आईबी/एमजे (पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री